ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) के संस्थापक कमल हसन के नाथूराम गोडसे को लेकर दिए बयान का समर्थन किया है. उनका कहना है कि महात्मा गांधी की हत्या करने वाले को आतंकवादी ही कहा जाना चाहिए. इसके साथ ही सवालिया लहजे में असदुद्दीन ओवैसी ने यह भी कहा, ‘जिस व्यक्ति ने बापू की हत्या की, अगर उसे आतंकवादी नहीं कहेंगे तो फिर क्या कहेंगे.’

ओवैसी ने आगे कहा, ‘महात्मा गांधी की हत्या में जो लोग शामिल थे वे सभी आतंकी हैं. उनकी हत्या की जांच को लेकर कपूर आयोग का गठन किया गया था. उस आयोग ने जिन लोगों को उसका दोषी माना है उन सभी को आतंकवादी कहा जाना चाहिए.’

इससे पहले कमल हासन ने इसी रविवार को तमिलनाडु में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नाथूराम गोडसे को लेकर एक बयान दिया था. तब उन्होंने कहा था, ‘भारत का पहला आतंकवादी हिंदू था और उसका नाम नाथूराम गोडसे था.’ इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा था, ‘शायद वहीं से भारत में कट्टरपंथी विचारधारा की शुरुआत हुई थी.’

उधर, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिव सेना सहित कई दूसरे नेताओं ने कमल हासन के उस बयान पर आपत्ति जताई थी. साथ ही चुनाव आयोग से उसकी शिकायत करते हुए कमल हासन के चुनाव प्रचार करने पर रोक लगाने की मांग भी की थी. इस दौरान उसी बयान के मद्देनजर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में उनके खिलाफ आपराधिक मामला भी दर्ज कराया गया है. इस पर दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट इसी महीने की 16 तारीख को सुनवाई करेगी.