चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के लिए निर्धारित अवधि से एक दिन पहले ही प्रचार प्रतिबंधित करने का सख्त फैसला किया. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. पश्चिम बंगाल के कोलकाता में मंगलवार को हुई राजनीतिक हिंसा के मद्देनजर आयोग ने यह कदम उठाया है. उपचुनाव आयुक्त चंद्रभूषण कुमार ने बताया, ‘यह संभवत: पहला मौका जब आयोग को संविधान के अनुच्छेद 324 के तहत इस तरह की कार्रवाई करनी पड़ी हो.’ इस अनुच्छेद में चुनाव आयोग के गठन, कार्य और शक्तियों का उल्लेख है. आखिरी चरण के तहत राज्य की नौ लोकसभा सीटों पर 19 मई को मतदान होना है.

कोचिंग की पढ़ाई का छात्रों के स्वास्थ्य पर बुरा असर : रिपोर्ट

कोचिंग की पढ़ाई का छात्रों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ रहा है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक एक शोध रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि 87 फीसदी छात्र मस्कुलोस्केलेटल डिसऑर्डर (एमएसडी) से जूझ रहे हैं. एमएसडी को आसान शब्दों में मांसपेशियों की परेशानी कहा जाता है. यह मांसपेशी गर्दन, कमर का निचला हिस्सा, एड़ी, पीठ का ऊपरी हिस्सा, कंधा, घुटना और कलाई की हो सकती है. इस शोध में शामिल दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल के डॉ हर्षवर्द्धन पोपलवार ने बताया, ‘अधिकतर कोचिंग सेंटरों में बच्चे बेंच पर बैठते हैं. इसमें पीठ को पीछे से सपोर्ट नहीं मिलता. ये फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं, जिससे मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं.’ इस शोध के लिए ऐसे 488 छात्रों को चुना गया जो 14 से 16 महीने की कोचिंग में प्रतिदिन औसतन पांच घंटे पढ़ाई कर चुके हैं.

तेलंगाना : 3,000 करोड़ रुपये के पोंजी और निवेश धोखाधड़ी मामले में तीन गिरफ्तार

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 3,000 करोड़ रुपये के पोंजी और निवेश धोखाधड़ी मामले में तेलंगाना से तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें दो महिलाएं हैं. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक इनके खिलाफ मनी लॉन्डरिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है. बताया जाता है कि 3,000 करोड़ की रकम देशभर में 1.72 लाख निवेशकों से जुटाई गई थी. उन्हें हीरा ग्रुप की कंपनियों ने 36 फीसदी रिटर्न देने का वादा किया था. हालांकि, जांच में इसका खुलासा हुआ है कि इन कंपनियों की ऐसी कोई कारोबारी गतिविधियां नहीं हैं, जिससे अधिक रिटर्न का वादा किया जा सके. जांच में यह भी पता चला कि निवेशकों से वसूली गई इस रकम का इस्तेमाल बड़ी संख्या में संपत्तियों को खरीदने में किया गया.

डॉ मनमोहन सिंह के राज्यसभा पहुंचने पर संकट

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह का अगली बार राज्यसभा पहुंचने का रास्ता मुश्किल लग रहा है. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक असम से राज्यसभा सांसद मनमोहन सिंह को दोबारा सदन में भेजने के लिए 43 विधायकों का समर्थन चाहिए, जबकि असम उसके पास 25 विधायक हैं. अगर ऑल इंडिया यूनाईटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के 13 विधायकों का समर्थन मिलता भी है तो भी यह जरूरी आंकड़ा से पांच कम होगा. ऐसे में पार्टी कोई जोखिम नहीं लेना चाहती. माना जा रहा है कि ऐसी स्थिति में पूर्व प्रधानमंत्री को डीएमके की मदद से तमिलनाडु से संसद भेजा सकता है. वहीं, ऐसा नहीं होने पर उन्हें अप्रैल, 2020 तक इंतजार करना पड़ सकता है. बता दें कि आगामी 14 जून को मनमोहन सिंह का बतौर राज्यसभा सांसद कार्यकाल खत्म हो रहा है.

मतगणना के दौरान ईवीएम और वीवीपैट में दर्ज मतों के बीच अंतर पाए जाने पर वीवीपैट की गिनती मान्य

लोकसभा चुनाव 2019 की मतगणना के दौरान ईवीएम और वीवीपैट में दर्ज मतों के बीच अंतर पाए जाने पर वीवीपैट की गिनती को ही अंतिम माना जाएगा. हिन्दुस्तान में छपी खबर के मुताबिक आम तौर पर प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में पांच ईवीएम और इनसे संबंधित वीवीपैट में दर्ज मतों का मिलान किया जाएगा. हालांकि, किसी प्रत्याशी की मांग पर किसी विशेष ईवीएम-वीवीपैट के मतों की भी गिनती की जा सकती है. बताया जाता है कि इसकी वजह से नतीजों की अंतिम घोषणा वीवीपैट की गिनती पूरी होने के बाद ही की जाएगी. ऐसी स्थिति में चुनावी नतीजों के आधिकारिक आंकड़े आने में देरी हो सकती है.

भारतीय विमानों के लिए 30 मई तक पाकिस्तान का आकाश बंद

भारतीय विमानों के लिए पाकिस्तान का आकाश 30 मई तक बंद रहेगा. दैनिक जागरण के मुताबिक यह फैसला पाकिस्तानी सरकार की एक उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया. इसमें कहा गया कि इस बारे में कोई फैसला भारत में नई सरकार के गठन के बाद लिया जाएगा. बीती 26 फरवरी को भारत के बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने सभी विदेशी विमानों के लिए अपनी वायुसीमा बंद कर दी थी. इसके एक महीने बाद 27 मार्च को नई दिल्ली, बैंकॉक (थाइलैंड) और कुआलालंपुर (मलेशिया) से आने वाली उड़ानों के अतिरिक्त बाकी देशों के विमानों के लिए पाकिस्तानी आकाश खोल दिया गया था. बताया जाता है कि इन शहरों से आने वाले विमानों के लिए आकाश बंद रखने से पाकिस्तान को प्रतिदिन लाखों रुपये का नुकसान हो रहा है.