महात्मा गांधी की गोली मारकर हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को लेकर बयानबाजी का सिलसिला जारी है. इस कड़ी में मध्य प्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का नाम भी जुड़ गया है. प्रज्ञा ठाकुर ने एक सवाल पर प्रतिक्रिया देते हुए नाथूराम गोडसे को ‘देशभक्त’ बताया है. उन्होंने कहा, ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और देशभक्त रहेंगे.’ प्रज्ञा ठाकुर का यह भी कहना था, ‘गोडसे को आतंकवादी कहने वाले लोग पहले खुद के गिरेबां में झांककर देखें. इस बार के चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा.’

नाथूराम गोडसे को लेकर विवादित बयानबाजी का यह सिलसिला बीते रविवार को मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) के संस्थापक कमल हासन के एक बयान से शुरू हुआ था. तब तमिलनाडु में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था, ‘आजाद भारत का पहला आतंकवादी हिंदू था और उसका नाम नाथूराम गोडसे था.’ कमल हासन का यह भी कहना था कि उन्हें लगता है कि हिंदुस्तान में वहीं चरमपंथ की शुरुआत भी हुई थी.

कमल हासन के उस विवादित बयान पर भाजपा और शिवसेना सहित कई अन्य दलों के नेताओं ने आपत्ति जताई थी. उन्होंने चुनाव आयोग से उस बयान की शिकायत करते हुए कमल हासन के चुनावी प्रचार करने पर रोक लगाए जाने की मांग भी की थी. इसी बयान को लेकर उनके खिलाफ एक आपराधिक मामला भी दर्ज कराया गया है. इस दौरान ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कमल हासन के उस बयान का समर्थन किया था. उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या और उस साजिश में शामिल हर व्यक्ति को आतंकवादी कहे जाने को जायज भी ठहराया था.