अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने अब कहा है, ‘आतंकी हर धर्म में होते हैं. हम यह दावा नहीं कर सकते कि हमारा धर्म श्रेष्ठ है. हमने ऐसा नहीं किया. इतिहास आपको दिखाता है कि अतिवादी सभी धर्मों में होते हैं.

एमएनएम (मक्कल निधि मय्यम) पार्टी के संस्थापक कमल हासन ने राज्य के अरवाकुरिचि विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव के प्रचार के दौरान कहा, ‘मैं गिरफ्तारी से नहीं डरता. लेकिन यदि वे मुझे गिरफ्तार करते हैं, तो इससे तनाव बढ़ेगा. लिहाज़ा यह मेरा अनुरोध नहीं, बल्कि सलाह है कि मुझे चुनाव प्रचार करने दिया जाए.’ उन्होंने इस बात से साफ इंकार किया कि उन्होंने अपनी ग़िरफ़्तारी के डर से मद्रास उच्च न्यायालय में अग्रिम ज़मानत याचिका दायर की है.

ग़ौरतलब है कि कमल हासन बीते चार-पांच दिनों से सुर्ख़ियां बटोर रहे हैं. उन्होंने 12 मई की रात तमिलनाडु में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा था, ‘आजाद भारत का पहला आतंकी हिंदू था. उसका नाम नाथूराम गोडसे था. वहीं से देश में इसकी (आतंकवाद) शुरुआत हुई.’ इसके बाद करुर जिले के अरवाकुरिचि में उनके ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज़ कराई गई है. इससे उन पर ग़िरफ़्तारी की तलवार लटक रही है. राज्य में कई जगहों पर उनका विरोध भी हो रहा है.