फ़र्ज़ी आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) बनकर घूम रहे एक 25 वर्षीय युवक को हैदराबाद से ग़िरफ़्तार किया गया है. उसका नाम के गुरुविनोद कुमार बताया गया है.

ख़बरों के मुताबिक हैदराबाद की सेंट्रल ज़ाेन टास्क फोर्स पुलिस ने गोलकोंडा से गुरुविनोद काे पकड़ा है. वह मूल रूप से आंध्र प्रदेश का रहने वाला है. फिलहाल गोलकोंडा के मुशीराबाद इलाके में रह रहा था. ख़ुद काे लोगों के सामने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का एएसपी (अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक) बताता था. उसने अपनी यही पहचान बताकर सेना के एक रिटायर्ड मेजर को भी धोख़ा दिया.

बताया जाता है कि इन मेजर की मदद से वह कई आईपीएस अधिकारियों से मिला. उनके साथ तस्वीरें ख़िंचवाईं और उन्हें दिखाकर होटलों, मंदिरों आदि में विशेष सुविधाओं का लाभ लिया. लेकिन उसका भांडा उस वक़्त फूट गया जब उसने सेवानिवृत्त मेजर के घर से असली के धोख़े में नकली (डमी) पिस्तौल चुराई. तब मेजर को उस पर शक हुआ और उन्होंने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया.

हैदराबाद के पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने बताया कि गुरुविनोद आईपीएस बनना चाहता था. उसने पुलिस विभाग में भर्ती हाेने के लिए भी कई बार परीक्षाएं दीं. लेकिन हर बार असफल रहा. इसलिए उसने यह शॉर्टकट चुना. लोगों काे बताया कि वह परीक्षा में पास होकर आईपीएस बन गया है. हालांकि अब वह इस धोख़ाधड़ी के लिए जेल की हवा खा रहा है.