न्यूज़ीलैंड में क्राइस्टचर्च की मस्जिद में हमला करने वाले के ख़िलाफ़ आतंकवाद का आरोप लगाया गया है. अभियोजन पक्ष ने हमलावर ब्रेंटन टैरेंट पर 51 लोगों की हत्या करने और 40 की हत्या की कोशिश करने का आराेप भी लगाया है.

क्राइस्टचर्च पुलिस की ओर से जारी बयान में इसकी पुष्टि की गई है. क्राइस्टचर्च की मस्जिद में बीती 15 मार्च को हुए हमले में 51 लोग मारे गए थे. जबकि 40 से अधिक घायल हो गए थे. इस हमले को न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जसिंदा आर्डन ने ‘सुनियोजित आतंकी कार्रवाई’ बताया था. हालांकि अब तक हमलावर पर अपेक्षाकृत हल्की धाराओं में ही आरोप पत्र दायर हुआ था. अलबत्ता अब उसके ख़िलाफ़ आतंकवाद जैसी गंभीर धाराओं में मामला बनाया गया है. पुलिस के मुताबिक कानूनी जानकारों से मशविरे के बाद यह तब्दीली की गई है.

टैरेंट 28 साल का युवक है. वह मूल रूप से ऑस्ट्रेलिया का रहने वाला है. ख़ुद को श्वेतों की श्रेष्ठता साबित करने वाला बताता है. वह फिलहाल उच्च सुरक्षा वाली जेल में बंद है. ख़बरों के मुताबिक इस वक़्त उसके मानसिक और शारीरिक परीक्षण कराए जा रहे हैं. ताकि यह समझा जा सके कि वह मुक़दमे का सामना करने के लिए पूरी तरह फिट है या नहीं. अदालत में मामले की सुनवाई 14 जून को है.