इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के साथ कथित छेड़छाड़ को लेकर आई खबरों पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने चिंता जताई है. इसके साथ ही चुनाव आयोग को नसीहत देते हुए उन्होंने यह भी कहा है कि उसे ऐसी अटकलों पर विराम लगाना चाहिए. प्रणब मुखर्जी ने यह बात अपने ट्विटर हैंडल पर एक बयान जारी करते हुए कही है.

इसी बयान में पूर्व राष्ट्रपति ने आगे लिखा है कि हमारे लोकतंत्र के आधार को चुनौती देने वाले संशय के लिए कोई जगह नहीं है. लोगों का जनादेश पवित्र होता है और इसमें लेशमात्र का संशय भी नहीं होना चाहिए. प्रणब मुखर्जी का यह भी कहना है, ‘मेरा देश के संस्थानों पर पूरा विश्वास है. मेरा परखा हुआ विचार है कि किसी संस्था में काम कर रहा कोई व्यक्ति तय करता है कि उस संस्था के साधन किस तरह प्रदर्शन करेंगे.’ उनका यह भी कहना है कि ईवीएम की सुरक्षा की जिम्मेदारी चूंकि चुनाव आयोग के पास है. ऐसे में उसे इन तमाम अटकलों पर विराम लगाना चाहिए.

इससे पहले ईवीएम के साथ कथित तौर पर छेड़छाड़ संबंधी कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे. उसके मद्देनजर कुछ जगहों पर प्रदर्शन की खबरें आई थीं. हालांकि चुनाव आयोग ने मतदान के बाद मतगणना स्थल तक ईवीएम को पहुंचाए जाने के दौरान उनके साथ छेड़छाड़ और गड़बड़ी की खबरों को नकार दिया था. इस बीच ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की संभावनाओं के मद्देनजर विभिन्न विपक्षी दलों के शीर्ष नेताओं ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से मतगणना स्थल पर पैनी निगाह रखने के लिए भी कहा है.