प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अपने लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान की तुलना ‘तीर्थयात्रा’ से की. प्रधानमंत्री ने यह टिप्पणी भाजपा मुख्यालय में आयोजित अपने मंत्रिमंडल के सदस्यों के लिये आयोजित ‘स्वागत एवं आभार मिलन समारोह’ में की.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘मैंने कई चुनाव देखे हैं, लेकिन यह चुनाव राजनीति से परे है. इस चुनाव को जनता तमाम तरह की दीवारों को लांघ कर लड़ रही थी. मैंने कई विधानसभा चुनाव और पिछले लोक सभा चुनाव में प्रचार अभियान में हिस्सा लिया है. इस दौरान देशभर का दौरा भी किया, इस बार का चुनाव प्रचार मुझे ऐसा लगा कि जैसे तीर्थयात्रा हो.’ उन्होंने राष्ट्र निर्माण के लिये राजग के एकजुट होकर काम करने पर जोर दिया.

मंगलवार को ही भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की पहल पर राजग के शीर्ष नेताओं की बैठक और रात्रिभोज का आयोजन भी हुआ. राजग की बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीसामी तथा लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान, शिवसेना के उद्धव ठाकरे शामिल हुए. बैठक में शिरोमणि अकाली दल का प्रतिनिधित्व पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और पार्टी नेता सुखबीर सिंह बादल ने किया. राजग नेताओं ने उम्मीद जाहिर की कि एक्जिट पोल की तरह ही 23 मई को मतगणना के बाद केंद्र में भाजपा के नेतृत्व में मजबूत सरकार बनेगी.