लोकसभा के इसी चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को छोड़ कांग्रेस में शामिल हुए उदित राज ने वोटों की गिनती को लेकर सवालिया लहजे में विवादित टिप्पणी की है. एक ट्वीट के जरिये सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा है, ‘सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं चाहता कि वीवीपैट की सारी पर्चियों को गिना जाए. क्या वो भी धांधली में शामिल है.’ इसी ट्वीट में उन्होंने आगे लिखा है, ‘चुनावी प्रक्रिया में जब लगभग तीन महीने से सारा सरकारी काम मंद पड़ा हुआ है तो गिनती में दो—तीन दिन लग जाएं तो क्या फर्क पड़ता है.’ उदित राज ने इस ट्वीट को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी और कांग्रेस की दिल्ली इकाई को टैग भी किया है.

इससे पहले मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने मतगणना के दौरान सभी वीवीपैट की पर्चियों की गिनती की मांग करने वाली एक जनहित याचिका खारिज कर दी थी.

इधर, यह पहला मौका नहीं जब उदित राज ने वोटों की गिनती और चुनाव आयोग को लेकर कोई विवादित बयान दिया हो. इससे पहले इसी मंगलवार को भी एक ट्वीट के जरिये उन्होंने चुनाव आयोग पर सवाल उठाए थे. उस ट्वीट से उन्होंने कहा था, ‘भाजपा को जहां-जहां इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) बदलनी थी बदल ली होगी इसीलिए तो चुनाव सात चरणों में कराया गया.’ इसके साथ ही उन्होंने यह भी लिखा था, ‘आपकी कोई नहीं सुनेगा चिल्लाते रहिये, लिखने से कुछ नहीं होगा, रोड पर आना होगा. अगर देश को इन अंग्रेजों के गुलामों से बचाना है तो आंदोलन करना पड़ेगा साहब. चुनाव आयोग बिक चुका है.’

इसके अलावा उदित राज ने इसी हफ्ते एग्जिट पोल के आंकड़ों के मद्देनजर भाजपा पर भी कटाक्ष किया था. तब एक ट्वीट के जरिये उन्होंने कहा था कि भाजपा आज तक केरल में एक भी सीट नहीं जीत पाई और ऐसा इसलिए है क्योंकि वहां के लोग ‘शिक्षित’ हैं ‘अंधभक्त’ नहीं.