माकपा के एक कार्यकर्ता की हत्या के मामले में केरल की एक स्थानीय अदालत ने आरएसएस के पांच कार्यकर्ताओं को उम्रकैद की सजा सुनाई. हत्या का यह मामला वर्ष 2006 का है.

केरल के थलासेरी के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आरएल बीजू ने हत्या, दंगा और अन्य अपराधों के मामले में शंकरन मास्टर (48), विजेश (38), प्रकाशन (48) और काव्येश (40) को दोषी पाया. न्यायाधीश ने पांचों आरोपियों को आजीवन कठोर कारावास की सजा सुनाते हुए प्रत्येक पर 50,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया. सभी दोषी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के सदस्य हैं. अदालत ने इस मामले के बाकी 11 अन्य आरोपियों को रिहा कर दिया. राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता की वजह से माकपा कार्यकर्ता केके याकूब पर बमों से 13 जून 2006 को हमला किया गया था,जिसमें उनकी मौत हो गई थी.