देश के भीतर भले चुनाव प्रक्रिया, निर्वाचन आयोग और इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) निष्पक्षता पर सवाल उठाए जा रहे हों मगर अमेरिका ने इस पर भरोसा जताया है. भारत में गुरुवार को आ रहे चुनाव नतीज़ों के बीच अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मोर्गन ओर्टगस ने एक बयान जारी किया. इसमें कहा, ‘हमें भारतीय चुनावों की निष्पक्षता, ईमानदारी पर भरोसा है. इस चुनाव में जो भी जीतेगा, हम उसके साथ काम करने के लिए वचनबद्ध हैं.’

ओर्टगस ने कहा, ‘भारत हमारा सच्चा रणनीतिक साझीदार है. यह बात हमारे विदेश मंत्री (माइक पॉम्पियो) भी कह चुके हैं. भारत के साथ हमारे बेहद मज़बूत रिश्ते हैं. आपसी सहयोग के लिए तमाम मसले हैं, जिन पर हम भारत के साथ काम कर सकते हैं.’ उन्होंने भारत और भारतीय नागरिकों की इस बात के लिए तारीफ़ की कि उन्हाेंने इतनी बड़ी चुनाव प्रक्रिया पूरी तरह शांति से निपटा ली. भारतीय चुनाव प्रक्रिया को उन्होंने ‘मानव इतिहास की सबसे बड़ी क़वायद’ बताया है.

अमेरिका को भारतीय चुनाव प्रक्रिया और निर्वाचन आयोग की निष्पक्षता किस हद तक भरोसा है, इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अमेरिका भारत के चुनाव की निगरानी के लिए अपने पर्यवेक्षक नहीं भेजता. जबकि दुनिया के कुछ अन्य देश ऐसे पर्यवेक्षकों को अपनी तरफ से तैनात करते हैं.