जम्मू-कश्मीर में आतंकी ज़ाकिर मूसा के मारे जाने के दो दिन बाद भी कई इलाकों में कर्फ्यू जारी है. राज्य प्रशासन ने किसी संभावित हिंसा की आशंका में यह कदम उठाया है. हालांकि मूसा के मारे जाने के बाद अब तक किसी इलाके से हिंसा भड़कने की ख़बर नहीं आई है.

ख़बरों के मुताबिक राज्य के श्रीनगर, कुलगाम और पुलवामा के कुछ हिस्सों में अभी कर्फ्यू जारी है. स्कूल और कॉलेज बंद हैं. घाटी में मोबाइल और इंटरनेट सेवा निलंबित है. बारामूला-बनिहाल लाइन पर रेल सेवा भी बाधित है. पुलिस अधिकारियों ने बताया, ‘कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए एहतियात के तौर पर इस तरह के कदम उठाए गए हैं.’

ग़ौरतलब है कि अलक़ायदा जैसे वैश्विक आतंकी संगठन से संबद्ध समूह गजवात-उल-हिंद के सरगना ज़ाकिर राशिद भट उर्फ ज़ाकिर मूसा को सुरक्षा बलों ने शुक्रवार को मार गिराया था. दक्षिण कश्मीर में पुलवामा जिले के त्राल इलाके के एक गांव में हुई मुठभेड़ में मूसा मारा गया था. तभी से घाटी में सख़्त ऐहतियाती सुरक्षा बंदोबस्त किए गए हैं.

इसकी वज़ह 2016 की घटनाएं हैं. उस वक़्त सुरक्षा बलों ने एक अन्य चर्चित आतंकी बुरहान वानी को मार गिराया था. उसके मारे जाने के बाद घाटी में कई महीनों तक विरोध प्रदर्शन और पत्थरबाजी की घटनाएं हुई थीं. चूंकि वानी के बाद ज़ाकिर मूसा ही घाटी में आतंक का प्रमुख चेहरा (पोस्टर ब्वाय) था. इसीलिए सुरक्षा बलों को कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका है.