दक्षिण कोरियाई वाहन निर्माता कंपनी ह्युंडई ने अपनी सबकॉम्पैक एसयूवी ‘वेन्यू’ बाज़ार में उतार दी है. इस सेगमेंट में यह ह्युंडई की पहली कार है. अब तक इस सेगमेंट में विटारा ब्रेज़ा के साथ मारुति-सुज़ुकी, नेक्सन के साथ टाटा मोटर्स और इकोस्पोर्ट के साथ फोर्ड बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं. हाल ही में महिंद्रा एंड महिंद्रा भी एक्सयूवी-300 के साथ इस सेगमेंट में कूद चुकी है.

लुक्स के मामले में वेन्यू काफी हद तक कंपनी की ही क्रेटा से प्रभावित दिखने के बावजूद फ्रेश अपील देती है. कंपनी ने कार को टायफून सिल्वर, पोलर व्हाइट, फेयरी रेड, डेनिम ब्लू, स्टारडस्ट ग्रे और लावा ऑरेंज जैसे मोनो टोन कलर और डेनिम ब्लू/पोलर व्हाइट, पोलर व्हाइट/फैंटम ब्लैक और लावा ऑरेंज/फैंटम ब्लैक जैसे डुअल टोन के साथ लॉन्च किया है.

कार के फ्रंट में आपको थ्री-डी इफेक्ट वाली ‘+’ शेप की फ्लोटिंग ग्रिल मिलती है. वहीं गाड़ी के हैडलैंप ठीक बोनट के नीचे होने की बजाय बंपर पर नीचे की तरफ दिए गए हैं. लेकिन हां, तस्वीर में हैडलैंप से ऊपर की तरफ दिख रहे लैंप से धोखा मत खाईएगा! ये टाटा की नई एसयूवी हैरियर के डे-रनिंग लैंप (डीआरएल) की तरह दिखते ज़रूर हैं. लेकिन असल में हैं इंडीकेटर. वेन्यू में डीआरएल को हैडलैंप के ही चारों तरफ रेक्टेंगुलर शेप में दिया गया है. इनके अलावा कार में फॉग लैंप्स के तौर पर प्रोजेक्टर का एक अलग सेट मिलता है. साइड से दिखने पर मेट ब्लैक ट्रीटमेंट लिए रूफ से जुड़ा ए-पिलर भी आपको क्रेटा की ही याद दिलाता है. 16-इंच के अलॉय व्हील्स को भी क्रेटा जैसी ही टर्बाइन डिज़ायन दी गई है.

जब आप वेन्यू के रियर लुक को देखते हैं तो यह गाड़ी एसयूवी की बजाय किसी बड़ी हैचबैक जैसी नज़र आती है. वहीं कुछ को इस कार के टेललैंप्स फॉक्सवैगन की नई पोलो जैसे लग सकते हैं. लेकिन डिज़ायन के मामले में यहां भी ह्युंडई ने उम्दा काम किया है. यहां कई सारे कर्व और स्ट्रेट लाइन, बंपर पर लगे रिवर्स लैंप और बूट के सेंटर पर लगी कार की बैजिंग वेन्यू को आकर्षक बनाती है. और, शार्क फिन एंटिना वेन्यू को पिछले हिस्से में दिए ख़ूबसूरती के इस पैकेज को पूरा करता है.

कार के डैशबोर्ड को बहुत खूबसूरती से डिज़ायन किया गया है. हालांकि कुछ लोगों को यहां डुअल टोन इंटीरियर की कमी खल सकती है जिसे पूरा करने के लिए ह्युंडई ने इंटीरियर में कहीं-कहीं डल-सिल्वर एक्सेंट दिया है. फीचर्स की बात करें तो वेन्यू के डैशबोर्ड पर बिल्कुल नया 8-इंच का टचस्क्रीन सिस्टम दिया गया है जो एंड्रॉइड ऑटो, एप्पल कार प्ले और इन बिल्ट नेविएगेशन जैसी खूबियों से लैस है. कार में दी गई अन्य खूबियों की बात करें तो यहां आपको- सेगमेंट की पहली सनरूफ, ऑटोमेटिक क्लाइमेट कंट्रोल, रियर एसी, क्विक चार्ज यूएसबी पोर्ट और 12 वोल्ट चार्ज़िग सॉकेट के साथ रेगुलर यूएसबी पोर्ट और वायरलैस चार्ज़िंग भी मिलती है. कार के गियर लीवर के पीछे आपको कार की रखने के लिए जगह मिलती है. इसके अलावा वेन्यू में सीट वेंटीलेशन और ड्राइव मोड सिलेक्टर जैसे बटन भी दिए गए हैं. वहीं, कार के लगभग 69 फीसदी हिस्से को बनाने में एडवांस हाई स्ट्रैंथ स्टील (एएचएसएस) और हाई स्ट्रैंथ स्टील (एचएसएस) का इस्तेमाल किया गया है.

कार में दी गई सबसे बड़ी खूबी की बात करें तो वह है इस कार का ‘कनेक्टेड’ होना. इसका मतलब है कि इस कार के इंफोटेनमेंट सिस्टम के साथ एक ई-सिम जोड़ी गई है जो ऑनबोर्ड डायग्नोस्टिक्स (सॉफ्टवेयर के ज़रिए कार के अलग-अलग हिस्सों से जुड़ी परेशानियों का पता लगाने) के साथ रियल टाइम व्हीकल ट्रैकिंग, रिमोट स्टार्ट, सफ़र करने से पहले ही गाड़ी को रिमोट एयरकंडीशन स्टार्ट और वाहन के चोरी होने पर उसकी स्थिति पता लगाने जैसी सुविधाएं उपलब्ध करवाती है. आईडिया-वोडाफोन पॉवर्ड इस सिम के साथ ह्युंडई ग्राहकों को कार के वारंटी पीरियड तक मुफ़्त डेटा देगी जिसे बाद में रेगुलर डेटा पैक से रिचार्ज किया जा सकता है. कार में दिया गया असिस्ट सिस्टम भारतीय लहज़े वाली इंग्लिश को समझने के हिसाब से तैयार किया गया है. साथ ही ह्युंडई ‘ब्लूलिंक’ नाम के एक चर्चित कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी प्रोग्राम पर भी काम कर रही है जो भारतीय भाषाओं को समझ पाने में सक्षम होगा.

परफॉर्मेंस के मामले में नई वेन्यू में तीन इंजन विकल्प दिए गए हैं. इनमें पहला 1.0-लीटर क्षमता का कप्पा टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन है जो 118 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 172 एनएम का पीक टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. इस इंजन को कंपनी ने बिल्कुल नए 7-स्पीड डुअल-क्लच ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन से लैस किया है. इसके अलावा कार के साथ 1.2-लीटर क्षमता नेचुरली इंस्पायर्ड पेट्रोल इंजन दिया है जो 82 बीएचपी पॉवर और 114 एनएम का अधिकतम टॉर्क जनरेट करता है, यह इंजन 5-स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स से लैस है. और आख़िर में 1.4-लीटर का यू2 सीआरडीआई डीज़ल इंजन आता है जो इस कार को 89 बीएचपी की अधिकतम ताकत के साथ 220 एनएम का जबरदस्त पीक टॉर्क देता है. इस इंजन को कंपनी ने 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जोड़ा है. ह्युंडई ने अपनी इस कार के लिए शुरुआती एक्सशोरूम कीमत 6.50 लाख रुपए तय की है जो कार के टॉप एंड मॉडल के लिए 11.10 लाख रुपए तक जाती है.

हीरो स्प्लेंडर का सिल्वर जुबली एडिशन

देश की सबसे बड़ी दो-पहिया वाहन निर्माता कंपनी हीरो ने अपनी लोकप्रिय मोटरसाइकिल स्प्लेंडर का सिल्वर जुबली एडिशन लॉन्च किया है. कंपनी ने इसे ‘स्प्लेंडर+ 25 ईयर स्पेशल एडिशन’ नाम दिया है. कंपनी ने इस बाइक की कीमत 55,856 रुपए (एक्सशोरूम) तय की है जो कि इसके रेगुलर मॉडल से थोड़ी सी ज्यादा है.

यदि इस स्पेशल एडिशन की ख़ूबियों की बात करें तो बाइक की बॉडी पर खास 3-डी इफेक्ट वाले एम्ब्लेम्स (चिह्न/स्टीकर) और और यूनीक ग्राफिक्स दिए गए हैं. बाइक के वाइज़र पर ‘हीरो स्प्लेंडर+ 25 ईयर स्पेशल एडिशन’ के स्टीकर लगे हैं और दोनों तरफ़ नए ग्राफिक्स दिए गए हैं. फ्यूल टैंक पर ‘हीरो’ का 3-डी लोगो लगा हुआ है. कुछ ऐसे ही लोगो बाइक के साइड पैनल्स पर देखने को मिलते हैं. वहीं नई स्प्लेंडर के रियर पैनल पर आई3एस (आईडल स्टार्ट स्टॉप सिस्टम) का लोगो मिलता है. कुल मिलाकर बाइक को स्पोर्टी फील देने की कोशिश की गई है.

स्प्लेंडर के इस स्प्लेंडर एडिशन में चार्जर की मदद से हैंडलबार पर मोबाइल चार्ज करने की सुविधा दी गई है. इसे इस तरह से डिज़ायन किया गया है कि यह बारिश में नहीं भीगता. परफॉर्मेंस के मामले में इस बाइक में 97.2 सीसी का एयरकूल्ड सिंगल सिलेंडर ओएचसी इंजन मिलता है जो कि 8000 आरपीएम पर 8.36 पीएस की अधिकतम पॉवर के साथ 5000 आरपीएम पर 8.05 एनएम का अधिकतम टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. इस इंजन को 4-स्पीड कॉन्स्टेन्ट गियर बॉक्स से जोड़ा गया है. बाइक में किक और सेल्फ स्टार्ट दोनों विकल्प मौजूद हैं.

1984 में भारतीय बाज़ार में उतरी हीरो (होंडा) ने शुरुआत से ही मध्यम वर्ग की जरूरतों को अपनी प्राथमिकता पर रखा था. कंपनी की सबसे पहली बाइक सीडी 100 में यह बात साफ दिखती थी. इसी सिलसिले को जारी रखते हुए कंपनी ने 1994 में साधारण लुक्स और हल्के वजन वाली स्प्लेंडर को भारत के बाजार में उतारा. इस बाइक के लॉन्च ने सिर्फ हीरो (होंडा) बल्कि भारत के लाखों मिडिल क्लास परिवारों के सपनों को भी पहिए लगा दिए थे.

स्प्लेंडर से पहले देश के एक बड़े वर्ग के लिए मोटरसाइकिल मेंटेन करना एक ख्वाब जैसा था. लेकिन औसत बजट में उपलब्ध स्प्लेंडर ने लाखों लोगों का यह अरमान पूरा कर दिया. साथ ही कम खर्चीला रखरखाव और बेहतरीन माइलेज जैसी इसकी खूबियां उनके लिए मानो सोने पर सुहागा साबित हुईं. हीरो (होंडा) की इस नई मोटर साइकिल ने ऐसी रफ्तार पकड़ी कि इसने बाजार में पहले से मौजूद दूसरी कंपनियों की नींद उड़ाकर रख दी. बिक्री न होने के कारण उन्हें अपनी कई मोटरसाइकिलों का उत्पादन तक रोकना पड़ गया. स्प्लेंडर के बाद अलग-अलग कंपनियों ने इस सेगमेंट में दसियों गाड़ियों को लॉन्च किया लेकिन उनमें से कोई भी इसके इर्द-गिर्द भी नहीं फटक पायी. 2000, 2001 और 2002 यानी लगातार तीन सालों तक इस मोटरसाइकिल ने न सिर्फ भारत बल्कि पूरे विश्व में सर्वाधिक बिकने वाली मोटरसाइकिल का रिकॉर्ड अपने नाम किया.

बाज़ार में उतरने के 10 साल के भीतर ही हर साल स्पलेंडर की 50 लाख यूनिट का उत्पादन किया जाने लगा था. इसका शानदार प्रदर्शन यहीं नहीं रुका. 2009 में इस बाइक के उत्पादन ने प्रतिवर्ष एक करोड़ 10 लाख यूनिट का आंकड़ा पार कर लिया. कुछ साल पहले आई एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हर 30 सेकेंड के भीतर एक स्प्लेंडर खरीदी जाती है. स्प्लेंडर से जुड़ा एक दिलचस्प पहलू यह भी है कि यह देश में सर्वाधिक चुराई जाने वाली बाइक मानी जाती है.

मारुति-सुज़ुकी ब्रेज़ा का स्पोर्ट्स एडिशन

देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति-सुज़ुकी ने अपनी लोकप्रिय कॉम्पैक एसयूवी ‘विटारा ब्रेज़ा’ का स्पोर्टी वर्ज़न लॉन्च कर दिया है. इसकी खासियत है कि 29,990 रुपए का अतिरिक्त भुगतान कर ब्रेज़ा के किसी भी स्टैंडर्ड मॉडल को स्पोर्टस लिमिटेड एडिशन में अपग्रेड किया जा सकता है. इसके लिए कंपनी यूनिक एसेसरी पैकेज देती है जिसमें नए सीट कवर, डिज़ायनर मेट, स्लाइड क्लैडिंग, बॉडी ग्राफिक्स, फ्रंट और रियर गार्निश, लैदर स्टीअरिंग कवर, डोर स्टील गार्ड, व्हील आर्क किट और नेक कुशन शामिल हैं.

कंपनी इस गाड़ी को सबसे पहले मार्च 2016 में लॉन्च किया था. उसके बाद से ही यह कार बाज़ार में कमाल कर रही है. यह अपने सेगमेंट की पहली कार थी जिसके साथ डुअल टोन कलर दिए गए थे. इसके अलावा एसयूवी सेगमेंट में सबसे तेज चार लाख यूनिट बिक्री का आंकड़ा भी ब्रेज़ा के ही नाम है. कंपनी ने यह उपलब्धि लॉन्च होने के 35 महीने में ही हासिल कर ली थी. यदि 2018-19 की ही बात करें तो इस दौरान इस कार की 1,57,880 यूनिट बेची जा चुकी हैं. इस शानदार प्रदर्शन की बदौलत ब्रेज़ा ने अकेले ही सेगमेंट के 44 फीसदी भाग पर कब्ज़ा किया हुआ है. साथ ही यह देश की सबसे ज्यादा बेची जाने वाली शीर्ष दस कारों में भी शुमार है.

मारुति ने 2018 में ब्रेज़ा ऑटोमैटिक वर्ज़न लॉन्च किया था जिसमें टू पैडल टेक्नोलॉजी वाले ऑटो गियर शिफ्ट (एजीएस) का इस्तेमाल किया गया था. गाड़ी के इस वर्ज़न को ग्राहकों (खासतौर पर महानगरों) की तरफ़ से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली थी. ब्रेज़ा ऑटोमैटिक और 5-स्पीड मैनुअल स्टैंडर्ड के साथ 1.3 लीटर क्षमता वाला 1248 सीसी का डीज़ल इंजन ही इस्तेमाल किया है जो 90 एचपी की अधिकतम पॉवर पैदा करने में सक्षम है. मारुति ने इस कार को सिर्फ़ डीज़ल फ्युअल ट्रिम में लॉन्च किया था जिसकी एक्सशोरूम कीमत 7.68 लाख रुपए से लेकर 10.42 लाख रुपए तक जाती है. ब्रेज़ा के अलावा सेगमेंट में फोर्ड इकोस्पोर्ट, महिंद्रा एक्सयूवी-300 और टाटा नेक्सन मौजूद हैं. इनके अलावा इसी हफ़्ते लॉन्च हुई ह्युंडई वेन्यू सेगमेंट की नई मेहमान है.