कांग्रेस में करारी हार पर मंथन जारी है. शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वर्किंग कमिटी की बैठक में अपने इस्तीफे की पेशकश की. हालांकि, वर्किंग कमेटी ने इसे ठुकरा दिया. इस बैठक के बाद एक बड़ी खबर आई है कि लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन से नाखुश राहुल गांधी ने अपने वरिष्ठ नेताओं से नाराजगी जाहिर की है.

खबरों के मुताबिक शनिवार हुई बैठक में राहुल गांधी उन वरिष्ठ नेताओं से भी नाराज दिखे जिन्होंने लोकसभा चुनाव में अपने बेटों को टिकट दिलाया. बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बेटों को टिकट मिलने के बाद इन नेताओं ने उन्हें जिताने के लिए जी-तोड़ मेहनत की, जिसका खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ा, क्योंकि ये बड़े नेता एक संसदीय क्षेत्र में ही सीमित रह गए. कांग्रेस नेता और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम समेत कई नेताओं के बेटे यह लोकसभा चुनाव लड़े थे.

एनडीटीवी के मुताबिक वर्किंग कमेटी की बैठक के दौरान राहुल गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया की भी उस बात से भड़क गए जिसमें उन्होंने कहा कि तीन राज्यों के मुख्यमंत्री ठीक से प्रदर्शन नहीं कर सके. इस पर राहुल गांधी ने सिंधिया से पूछा, ‘क्या आप राज्य के नेता नहीं हैं’.

खबर के मुताबिक राहुल गांधी जब इस्तीफे पर अड़ गए तो पी. चिदंबरम रो पड़े और राहुल गांधी से अपील करते हुए कहा कि वह अध्यक्ष पद की कुर्सी न छोड़े. चिदंबरम का कहना था, ‘आपको पता नहीं है कि दक्षिण भारत के लोग आपको कितना प्यार करते हैं. आपके इस्तीफा देने से कुछ लोग खुदकुशी कर लेंगे.’