जापान के कावासाकी शहर में मंगलवार को बड़े पैमाने पर चाकूबाज़ी की घटना हुई है. इसमें दो लोगों की मौत होने की ख़बर है. जबकि 17 लोग घायल हुए हैं.

ख़बरों के मुताबिक दमकल विभाग के अधिकारी यूजी सेकिज़ावा ने बताया, ‘एक पुरुष और एक बच्ची के जीवित रहने के संकेत नहीं हैं.’ जापान में किसी घटना में मारे गए लोगों के बारे में स्वास्थ्य विभाग से प्रमाणित होने तक सामान्य रूप से इसी तरह जानकारी सार्वजनिक की जाती है. अभी चाकूबाज़ी की घटना में भी मारे गए दोनों लोगों के बारे में स्वास्थ्य विभाग ने आधिकारिक प्रमाणीकरण नहीं किया है.

दमकल विभाग की ओर से बताया गया कि चाकूबाज़ी में जो 17 लोग घायल हुए हैं उनमें भी बच्चे ज़्यादा हैं. मीडिया के अनुसार हमलावर शायद एक ही था. लेकिन वह दोनों हाथों से चाकू चला रहा था. हालांकि इसकी भी अभी पुष्टि नहीं हुई है. पुलिस ने संदेह के आधार पर एक व्यक्ति को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. लेकिन हमलावर और उसके इरादे के बारे में अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है.

वहीं सरकारी चैनल एनएचके की ख़बर की मानें तो हमलावर ने अपने आप को भी गंभीर रूप से घायल कर लिया है. घटना के बारे में पहली जानकारी सुबह 7.44 पर मिली थी. शुरूआती तौर पर चाकूबाज़ी में चार बच्चों के घायल होने की ख़बर थी. बताया जाता है कि जहां घटना हुई वहां पास में ही प्राथमिक स्कूल है. इसीलिए बच्चे इस घटना के ज़्यादा शिकार हुए.

ध्यान रखने की बात है कि जापान में हिंसा की घटनाएं पूरी दुनिया में सबसे कम होती हैं. ऐसी सामूहिक हिंसा की घटनाएं तो बिल्कुल दुर्लभ हैं. इससे पहले वहां 2018 में सेंट्रल जापान में ऐसी घटना हुई थी. तब एक हमलावर ने एक व्यक्ति की चाकू मारकर हत्या कर दी थी. दो अन्य को घायल कर दिया था. जबकि 2016 में एक अन्य हमलावर ने टोक्यो में चाकू मारकर 19 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था.