राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पद से इस्तीफा नहीं देने के लिए कहा है. उनका कहना है, ‘राहुल गांधी का ऐसा करना कांग्रेस के लिए आत्मघाती कदम उठाने जैसा होगा. साथ ही उनके ऐसा करने से उन सामाजिक और राजनीतिक ताकतों को भी झटका लगेगा जो ‘संघ परिवार’ के खिलाफ लड़ाई लड़ रही हैं.’

लालू प्रसाद यादव के मुताबिक, ‘अगर राहुल गांधी पार्टी अध्यक्ष का पद छोड़ देते हैं तो यह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा बिछाए जाल में फंसने के समान होगा क्योंकि वो ऐसा ही चाहती है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘अगर गांधी परिवार से बाहर का कोई व्यक्ति कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनता है तो ऐसे में भाजपा के लोग उसे भी गांधी परिवार की ‘कठपुतली’ ही बताएंगे.’ इसके साथ ही सवालिया लहजे में आरजेडी प्रमुख ने कहा, ‘राहुल गांधी ऐसा करके आलोचकों को अपने खिलाफ बोलने का अवसर क्यों देना चाहते हैं.’

राहुल गांधी को इस सलाह के साथ उन्होंने इस लोकसभा के चुनावी नतीजों की समीक्षा भी की है. लालू प्रसाद यादव के मुताबिक हर चुनाव की अपनी एक कहानी होती है. इस चुनाव में नरेंद्र मोदी एक निर्विवाद नेता के तौर पर उभरे. साथ ही यह भी सच है कि मोदी ने विपक्षी दलों को चुनाव में हराया है. ऐसे में सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ लड़ने वाली विपक्षी पार्टियों को चिंतन करना चाहिए कि आखिर क्या गलत हुआ जिससे ऐसे चुनावी परिणाम आए हैं. उन्होंने यह भी कहा कि इस चुनाव में विपक्षी दलों की हालत ‘बिना दूल्हे की बारात’ (किसी नेता का न होना) जैसी थी.