उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के परिवार को एक बड़ा झटका दिया है. खबरों के मुताबिक योगी आदित्यनाथ ने कमलनाथ के बेटे नकुल द्वारा गाजियाबाद में चलाए जाने वाले एक संस्थान को आवंटित जमीन का आवंटन रद्द करने के आदेश दिए हैं. करोड़ों की कीमत वाली 10,841 मीटर यह जमीन गाजियाबाद के राज नगर इलाके में है. इस पर इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी (आईएमटी) का होस्टल बना हुआ है.

इस बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के स्थानीय पार्षद राजेंद्र त्यागी ने भी इस खबर की पुष्टि की है. साथ ही कहा है, ‘मैंने ही राज्यपाल और मुख्यमंत्री से इसकी शिकायत की थी क्योंकि इस जमीन का ताल्लुक राज्य द्वारा संचालित चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय (सीसीएसयू) से है. मेरे पास इसके सबूत हैं. आईएमटी ने इस जमीन पर फर्जीवाड़ा करके कब्जा किया है.’

राजेंद्र त्यागी का यह भी कहना है कि दस्तावेजों के मुताबिक वर्ष 1973 में उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास निगम (यूपीएसआईडीसी) ने आईएमटी को राज नगर एक्सटेंशन में एक प्लॉट आवंटित किया था. वह संस्थान उसी जमीन पर बनना था. लेकिन उस जमीन पर आईएमटी का डिस्टेंस लर्निंग सेंटर (दूरस्थ शिक्षा केंद्र) है जबकि इसका मुख्य कैंपस पास ही की एक दूसरी जमीन पर स्थित है.’

उधर, पार्षद की शिकायत पर उत्तर प्रदेश के राज्यपाल और सीसीएसयू के कुलपति राम नाइक ने योगी आदित्यनाथ को एक चिट्ठी लिखी है. साथ ही इस मामले की जांच करवाने के निर्देश भी दिए हैं. वहीं दूसरी तरफ कमलनाथ के एक करीबी ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है. साथ ही यह भी कहा है​ कि इसके जरिये मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और उनके परिवार को परेशान किया जा रहा है.