राजस्थान सरकार ने मंगलवार को अलवर की सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को पुलिस कांस्टेबल की नियुक्ति का आदेश जारी किया है. अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव स्वरूप ने पीटीआई को बताया कि पीड़ित महिला को पुलिस कांस्टेबल की नियुक्ति के आदेश जारी कर दिये गये हैं और शीघ्र ही महिला को नियुक्ति पत्र मिल जायेगा.

अलवर में 26 अप्रैल को पति के साथ बाइक पर जा रही एक दलित महिला के साथ पांच आरोपियों इंद्रराज गुर्जर, अशोक गुर्जर, छोटेलाल गुर्जर, हंसराज गुर्जर और महेश गुर्जर ने सामूहिक दुष्कर्म किया था. आरोपी मुकेश गुर्जर ने इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया में वायरल कर दिया था. पुलिस ने मामला दर्ज करने में देर की थी. चुनाव के अगले दिन 7 मई को मामला प्रकाश में आया तब अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को आलोचनाओं और राज्यभर में प्रदर्शनों का सामना करना पड़ा था.

इसके बाद पुलिस ने पीडिता के साथ सामुहिक दुष्कर्म करने वाले पांच आरोपियों और वीडियो क्लिप बनाने वाले और उसे वायरल करने वाले एक आरोपी को गिरफ्तार किया था. आरोपियों के खिलाफ अलवर की स्थानीय अदालत में चार्जशीट भी दायर कर दी गई है.