पाकिस्तान की सरकार ने आतंकवादी गतिविधियों के लिये धन मुहैया कराने के आरोप में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े लोगों पर कार्रवाई की है. उसने जैश-ए-मोहम्मद के छह सदस्यों को गिरफ्तार किया है. पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक इन लोगों को प्रतिबंधित संगठन के लिये धन जुटाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

पीटीआई के मुताबिक पंजाब प्रांत की पुलिस ने बुधवार को मीडिया को इसकी जानकारी दी है. अधिकारियों ने बताया कि पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग ने आतंकवाद के वित्तपोषण पर कार्रवाई तेज कर दी है और लाहौर से करीब 130 किमी दूर गुजरांवाला में जैश के छह कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है. विभाग की इस छापेमारी के दौरान जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने पर लाखों रुपये भी बरामद किए गए हैं.

बीते कुछ समय के दौरान पाकिस्तान सरकार ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद और जमात-उद-दावा पर कार्रवाई की है. उसने इन संगठनों से जुड़े 100 से अधिक कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया है. सरकार ने आतंकी संगठनों द्वारा चलाए जा रहे स्कूलों, एम्बुलेंस सेवाओं और मस्जिदों को अपने नियंत्रण में लिया है. हाल ही में पुलिस ने जमात-उद-दावा के मुखिया हाफ़िज़ सईद के साले और संगठन के दूसरे प्रमुख नेता अब्दुल रहमान मक्की को भी गिरफ्तार किया है.

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान ने यह कार्रवाई अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के वित्तपोषण की निगरानी करने वाली संस्था फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) के दबाव में की है. बीते फरवरी में हुई एफएटीएफ की एक समीक्षा बैठक के दौरान पाया गया था कि पाकिस्तान ने आतंक के खिलाफ बेहद कम कार्रवाई की है. इसके बाद संस्था ने पाकिस्तान को अपनी ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा था. एफएटीएफ का यह भी कहना था कि अगर भविष्य में पाकिस्तान आतंकियों और उनके संगठनों पर कार्रवाई नहीं करता है तो उस पर और बड़ी कार्रवाई करते हुए उसे ब्लैक लिस्ट कर दिया जाएगा.