‘मैं कुछ समय के लिए सभी जिम्मेदारियों से मुक्त होना चा​हता हूं.’  

— अरुण जेटली, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता

अरुण जेटली ने यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिखकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की नई केंद्र सरकार में कोई पद न लेने की इच्छा जताते हुए कही. इसी चिट्ठी से उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं बीते 18 महीनों से गंभीर स्वास्थ्य चुनौतियों का सामना कर रहा हूं. ऐसे में आपसे मेरा औपचारिक आग्रह है कि मुझे उचित समय दिया जाए ताकि मैं खुद पर और अपने इलाज पर ध्यान द सकूं.’

‘सांप्रदायिकता बढ़ने से भारत की धर्मनिरपेक्ष छवि खतरे का सामना कर रही है.’  

— फारुख अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री

फारुख अब्दुल्ला ने यह बात श्रीनगर में विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों के साथ बातचीत करने के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘बीते कुछ महीनों के दौरान उत्तरी भारत में मुसलमानों को निशाना बनाकर उनपर हमला किया गया. केंद्र सरकार को ऐसे हमलों की पुनरावृति रोकनी होगी.’ इसके साथ ही उन्होंने देश में ‘धार्मिक स्वतंत्रता और कानून के शासन’ की हिफाजत के लिए सामूहिक कोशिश किए जाने की दरकार भी बताई. साथ ही कहा, ‘बढ़ती सांप्रदायिकता के खिलाफ सभी धर्मनिरपेक्ष दलों को मिलकर काम करना होगा.’


‘जीत का रास्ता हार से ही खुलता है.’  

— तेजस्वी यादव, राष्ट्रीय जनता दल के नेता

तेजस्वी यादव ने यह बात चुनावी नतीजों को लेकर पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘जिस तरह का चुनावी परिणाम आया है उसकी हम लोगों ने जरा भी कल्पना नहीं की थी.’ इसके साथ ही तेजस्वी यादव ने यह भी कहा, ‘इन नतीजों के बाद संभावना जताई जा रही थी कि महागठबंधन में फूट पड़ जाएगी और यह टूट जाएगा. लेकिन मैं कहूंगा कि यह कोरी अफवाह है और हम सब लोग एकजुट हैं.’


‘नरेंद्र मोदी जी, आपके शपथ ग्रहण समारोह में शामिल न होने के लिए मैं माफी चाहूंगी.’  

— ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री

ममता बनर्जी ने यह बात एक ट्वीट के जरिये कही है. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘मोदी जी मैं शपथ समारोह में शिरकत करने पर विचार कर रही थी. लेकिन मैंने कुछ मीडिया रिपोर्ट देखी जिनमें पश्चिम बंगाल में हुई हिंसक घटनाओं के दौरान भाजपा ने अपने 54 कार्यकर्ताओं की हत्या किए जाने का दावा किया है. यह दावा सही नहीं है.’ उनके मुताबिक बंगाल में कभी ‘राजनीति से प्रेरित’ हत्याएं नहीं हुईं. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘हो सकता है कि वे हत्याएं आपसी या फिर पारिवारिक रंजिश के चलते की गई हों.’


‘मुझे नहीं लगता कि ममता बनर्जी की अगुवाई वाली बंगाल सरकार 2021 तक अपना कार्यकाल पूरा कर पाएगी.’  

— राहुल सिन्हा, भाजपा के राष्ट्रीय सचिव

राहुल सिन्हा का यह बयान ममता बनर्जी की अगुवाई वाले तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के नेताओं के तेजी से भाजपा में शामिल होने को देखते हुए आया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘जिस तरह टीएमसी नेता भाजपा से जुड़ रहे हैं उसे देखकर यही लगता है कि पश्चिम बंगाल में अगले छह महीने से साल भर के भीतर चुनाव हो जाएंगे.’ राहुल सिन्हा का यह भी कहना था कि टीएमसी की सरकार पुलिस और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीआईडी) के दबाव में है. इस वजह से इसके नेताओं में असंतोष है.