केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर नई सरकार से बाहर रहने की इच्छा जताई है. इस खबर को आज के कई अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इस पत्र में उन्होंने लिखा है, ‘मैं बीते 18 महीनों से स्वास्थ्य संबंधी गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहा हूं. हालांकि, मेरे डॉक्टरों ने मुझे इनमें से कई चुनौतियों से पार पाने में सक्षम बना दिया है, इसीलिए मैं चुनाव के दौरान उन जिम्मेदारियों को निभा भी पाया, जो मुझे दी गई थीं.’ अरुण जेटली ने आगे लिखा है, ‘मैं आप से (नरेंद्र मोदी) औपचारिक तौर पर आग्रह करता हूं कि मुझे उचित समय दिया जाए. ताकि मैं खुद पर, अपने स्वास्थ्य पर और अपने इलाज पर ध्यान दे सकूं.’ नई सरकार का शपथ ग्रहण समारोह आज होना है.

दिल्ली : लू के प्रकोप को देखते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी

भारतीय मौसम विभाग ने लू के प्रकोप को देखते हुए दिल्ली में गुरुवार से अगले तीन दिनों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक इस अवधि के दौरान राज्य में तापमान के 46 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने का अनुमान है. मौसम विभाग हर मौसम में लोगों को सचेत करने के लिए चुनिंदा रंगों का अलर्ट जारी करता है. ऑरेंज अलर्ट का मतलब है कि लोग विषम परिस्थितियों के लिए तैयार रहें. वहीं, लू और गर्मी से तेलंगाना में 40 और आंध्र प्रदेश में 14 लोगों की मौत हो चुकी है. महाराष्ट्र के चंद्रपुर में पारा 48 डिग्री तक पहुंच गया है.

विपक्षी एकजुटता की एक बार फिर कोशिश, 31 मई को बैठक

लोकसभा चुनाव 2019 में करारी हार के बाद विपक्षी दल एक बार फिर एकजुटता की कोशिश में दिख रहे हैं. द हिंदू की खबर के मुताबिक गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथग्रहण के अगले दिन कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों की बैठक बुलाई गई है. विपक्ष के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘चुनाव खत्म हो चुके हैं. अब हमें आगामी संसदीय सत्र के लिए रणनीति पर बात और आगे के रास्ते पर चर्चा करनी होगी.’ इस बैठक में कांग्रेस के अलावा डीएमके, तृणमूल कांग्रेस सहित अन्य दलों के शामिल होने की संभावना है. वहीं, विपक्ष के एक गुट ने इस बैठक में वाईएसआर कांग्रेस को भी शामिल करने पर जोर दिया है जो लोकसभा में 22 सांसदों के साथ चौथी सबसे बड़ी पार्टी है.

दिल्ली में सामान्य आरक्षण लागू

दिल्ली सरकार ने सरकारी नौकरियों और शैक्षणिक संस्थाओं में सामान्य आरक्षण लागू करने का फैसला किया है. इसके तहत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए 10 फीसदी कोटा निर्धारित किया गया है. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने इससे संबंधित अधिसूचना जारी की है. इसमें कहा गया है कि एक फरवरी, 2019 या इसके बाद जितने भी खाली पदों पर सीधी भर्ती निकाली गई है, उन सभी में यह लागू होगा. दिल्ली सरकार के सभी विभागों के अलावा अलग-अलग तरह के बोर्डों, सरकारी कंपनियों (पीएसयू) और निगम में भी सामान्य आरक्षण को लागू करने की बात कही गई है.

बिहार : कांग्रेस ने महागठबंधन की बैठक से खुद को अलग किया

लोकसभा चुनाव में करारी हार को लेकर महागठबंधन की समीक्षा बैठक से कांग्रेस ने खुद को अलग कर लिया. बुधवार को कांग्रेस को छोड़ सभी घटक दलों के अध्यक्ष या उनके प्रतिनिधि इस बैठक में मौजूद थे. दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक हार के कारणों को लेकर कांग्रेस के अंदर नेताओं की अलग-अलग राय के कारण पार्टी ने इस अहम बैठक में जाने से परहेज किया. अखबार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पार्टी के अंदर जो अलग-अलग राय उभर रही है, उसमें राजद को हार का जिम्मेदार ठहराना, राजद नेता तेजप्रताप यादव की पार्टी विरोधी गतिविधियां और आपसी समन्वय का अभाव प्रमुख हैं. वहीं, कांग्रेस का एक धड़ा अब राज्य में अकेले चुनावी दंगलों में उतरने पर जोर दे रहा है. उधर, कुछ का कहना है कि महागठबंधन की बैठक की मेजबानी अब कांग्रेस को करनी चाहिए क्योंकि, उसकी राष्ट्रीय स्तर पर पहचान है.

उत्तर प्रदेश : बाराबंकी जहरीली शराब हादसे में मृतकों की संख्या 23 तक पहुंची

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से मरने वालो की संख्या 23 तक पहुंच गई है. राजस्थान पत्रिका की खबर के मुताबिक 52 लोग अभी भी अस्पताल में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहे हैं. हालांकि, प्रशासन ने अब तक 12 लोगों के मरने की ही पुष्टि की है. इस मामले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. इस मामले में जिला आबकारी सहित अन्य चार वरिष्ठ अधिकारियों को निलंबित किया गया है. साथ ही, दोषियों की गिरफ्तारी के लिए तीन टीमें भी गठित की गई हैं. बीते सोमवार को एक ठेके से शराब खरीदकर पीने वालों की तबियत खराब होने लगी थी. इसके बाद इन्हें बाराबंकी और लखनऊ स्थित अस्पतालों में रेफर किया गया.