झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है. इसमें वे एक महिला पत्रकार से बातचीत करते दिख रहे हैं. लेकिन उनसे सवाल कर रही पत्रकार ने अपनी नाक ‘दबा’ रखी है. दावा है कि रघुबर दास उस समय शराब के नशे में थे इसलिए पत्रकार को बदबू के चलते मजबूरन नाक बंद करनी पड़ी.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर शेयर हो रही इस तस्वीर पर लोग तरह-तरह की टिप्पणियां कर रहे हैं. ज़्यादातर टिप्पणियों में मुख्यमंत्री रघुबर दास का मज़ाक़ उड़ाया गया है. कुछ में उनके बहाने भाजपा पर निशाना साधा गया है. लेकिन यह साफ़ नहीं है कि क्या उन्होंने सच में तस्वीर खींचे जाते समय शराब पी रखी थी.

सत्याग्रह ने कुछ कीवर्ड्स से ट्विटर पर सर्च किया तो पता चला कि जिन महिला पत्रकार को दास ने इंटरव्यू दिया उनका नाम निधि है और वे एबीपी के लिए काम करती हैं. उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर इस दावे को ख़ारिज किया है.

ट्वीट में निधि ने लिखा है, ‘(इंटरव्यू के दौरान) मेरी तस्वीर तब खींची गई जब मैं अपनी नाक रगड़ रही थी, जो एक सामान्य बात है. मैं सोशल मीडिया के उन सभी दावों का खंडन करती हूं जिनमें कहा गया है कि मैंने किसी अप्रिय गंध की वजह से नाक ढक ली थी.’

निधि का ट्वीट

निधि के इस ट्वीट से साफ़ है कि उनकी और रघुबर दास की तस्वीर को ग़लत जानकारी के साथ शेयर किया गया है. राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा किसी संयोग का सोशल मीडिया पर इस तरह इस्तेमाल करना अब कोई नई बात नहीं रह गई है.

(अगर आपके पास सोशल मीडिया के ज़रिए ऐसी कोई जानकारी (ख़बर, तस्वीर या वीडियो) आई है, जिसके सही होने पर आपको संदेह हो तो उसे हमें dushyant@satyagrah.com पर भेज दें. हम उसकी जांच कर सच सामने लाने का प्रयास करेंगे.)