अमेरिका ने भारत को व्यापार में दी जाने वाली विशेष तरजीह खत्म कर दी है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुताबिक इसकी वजह यह है कि भारत उनके देश को अपने बाजार तक बराबरी की पहुंच देने का भरोसा देने में नाकाम रहा है.

अमेरिका चुनिंदा विकासशील देशों से अपने यहां आने वाली वस्तुओं को टैक्स से छूट देता है. जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रिफरेंस नाम की इस बहुत पुरानी व्यवस्था का मकसद इन देशों के आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है. डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि भारत इन देशों की सूची से पांच जून 2019 को बाहर हो जाएगा. 2017 में भारत को इस व्यवस्था का सबसे ज्यादा फायदा मिला था. उसके 5.7 अरब डॉलर के उत्पादों को टैक्स से छूट मिली थी.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने इस फैसला का ऐलान इसी मार्च में किया था. उनका कहना था कि अमेरिका तो भारत को छूट दे रहा है, लेकिन भारत ऐसा नहीं कर रहा है. अमेरिकी मोहर साइकिल हार्लें डेविडसन मोटर साइकिल का उदाहरण देते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, ‘जब हम भारत को मोटर साइकिल भेजते हैं, तो उस पर 100 फीसदी का शुल्क लगाया जाता है. लेकिन जब भारत हमें मोटर साइकिल निर्यात करता है तो हम कुछ भी शुल्क नहीं लगाते.’ उनका आगे कहना था कि वे बराबरी का व्यवहार चाहते हैं.