त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने अपने स्वास्थ्य मंत्री सुदीप रॉय बर्मन को हटा दिया है. अगली व्यवस्था होने तक बर्मन के मंत्रालयों का प्रभार मुख्यमंत्री देब और उपमुख्यमंत्री जिष्णु देव वर्मा के पास रहेगा.

ख़बरों के मुताबिक सुदीप रॉय बर्मन को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में सरकार से बाहर किया गया है. उन्हें कुछ समय पहले मुख्यमंत्री ने ‘भाजपा के दुश्मन’ बताते हुए चेतावनी भी दी थी. सुदीप रॉय बर्मन पांच बार के विधायक हैं. वे त्रिपुरा कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रह चुके हैं. उन्होंने 2016 में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की सदस्यता ले ली थी. लेकिन इसके महज एक साल बाद ही वे कुछ अन्य विधायकों के साथ भाजपा में शामिल हो गए थे.

सुदीप रॉय बर्मन के पास स्वास्थ्य-परिवार कल्याण के अलावा, सूचना-प्रौद्योगिकी, विज्ञान-तकनीक-पर्यावरण, उद्याेग-वाणिज्य, लोकनिर्माण (पेयजल-स्वच्छता) मंत्रालयों का जिम्मा था. बर्मन बीती 22 मई को तब सुर्ख़ियों में आए थे जब उन्होंने दक्षिण त्रिपुरा के एक सरकारी अस्पताल में डॉक्टर को गर्भपात करते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया था. इससे पहले अप्रैल में उन्होंने मरीज के परिजनों द्वारा एक डॉक्टर की पिटाई किए जाने के विरोध में डॉक्टरों को सुरक्षा देने की मांग करते हुए अपनी पुलिस सुरक्षा लौटा दी थी.