अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के लिए लड़ने गए केरल निवासी राशिद अब्दुल्ला के मारे जाने की खबर है. टाइम्स ऑफ इंडिया ने एक अज्ञात आईएस आतंकी द्वारा भेजे गए संदेश के हवाले से यह खबर दी है. संदेश में बताया गया है कि करीब एक महीना पहले अफगानिस्तान में हुए एक अमेरिकी बम हमले में राशिद मारा गया. उसके अलावा भारत से अफगानिस्तान तीन भाइयों, दो महिलाएं और चार बच्चे भी मार गए.

राशिद अब्दुल्ला केरल के आईएस मॉड्यूल का प्रमुख था. कासरागोड का रहने वाला राशिद आईएस की विचारधारा का प्रचार करता था. इसके लिए वह सोशल मीडिया की काफी मदद लेता था. लेकिन पिछले दो महीनों से वह अपने अकाउंट पर एक्टिव नहीं दिख रहा था. बाद में अफगानिस्तान के खोरासान से एक आईएस आतंकी ने टेलीग्राम एप की मदद से संदेश भेज कर राशिद की मौत की सूचना दी. हालांकि सुरक्षा एजेंसियों ने अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है.

आतंकी बनने से पहले राशिद अब्दुल्ला ने इंजीनियरिंग में ग्रैजुएशन की थी. बाद में वह सलाफी उपदेशक एमएम अकबर के पीस इंटरनेशनल स्कूल में शामिल हुआ. फिर धीरे-धीरे वह आईएस के संपर्क में आया और उससे प्रभावित होने के बाद अफगानिस्तान पहुंचा. वहीं, केरल में आईएस मॉड्यूल का नेतृत्व कर रहे शजीर मंगलास्सेरी के मारे जाने के बाद राशिद को इस मॉड्यूल को चलाने का जिम्मा दिया गया.