चुनाव आयोग ने जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव का कार्यक्रम इस साल अमरनाथ यात्रा के बाद तय करने का फैसला किया है. आयोग ने मंगलवार को एक संक्षिप्त बयान जारी कर यह जानकारी दी है.

पीटीआई के मुताबिक इस बयान में कहा गया है, ‘चुनाव आयोग ने संविधान के अनुच्छेद-324 के तहत सर्वानुमति से फैसला किया है कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव इस साल के आखिर में कराया जायेगा.’ आयोग का कहना है कि राज्य में सुरक्षा इंतजामों एवं अन्य हालात पर वह नियमित नजर रखे हुये है और इस बारे में सभी पक्षों से हरसंभव जानकारी ली जा रही है.

आयोग द्वारा जारी बयान में यह भी कहा गया है कि राज्य में अमरनाथ यात्रा संपन्न होने के बाद चुनाव कार्यक्रम घोषित किया जायेगा. जम्मू-कश्मीर में हर साल जुलाई से मध्य अगस्त तक अमरनाथ यात्रा होती है. इस वर्ष यात्रा का समय एक जुलाई से 15 अगस्त तक निर्धारित है.

जम्मू-कश्मीर में पीडीपी-भाजपा गठबंधन सरकार से जुलाई 2018 में भाजपा के समर्थन वापसी की घोषणा के बाद राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया था. नयी सरकार के गठन की संभावनायें समाप्त होने के बाद राज्यपाल की सिफारिश पर दिसंबर 2018 में राज्य की विधानसभा को भंग कर राष्ट्रपति शासन लगाया गया था.