‘अगर इस बार भी राम मंदिर निर्माण का वादा पूरा नहीं हुआ तो लोग हमें जूते मारेंगे.’  

— संजय राउत, शिव सेना के प्रवक्ता

संजय राउत ने यह बात एक बातचीत के दौरान कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘2014 के चुनाव में भी हमने यह वादा किया था लेकिन उसे पूरा करने में हम विफल रहे. लोकसभा का पिछला चुनाव भी हमने इसी मुद्दे पर लड़ा. लेकिन अयोध्या में मंदिर निर्माण को लेकर हम प्रतिबद्ध हैं. मैं समझता हूं कि इस बार वहां मंदिर बनाने का काम शुरू भी होगा.’ इस मौके पर सवालिया लहजे में संजय राउत ने आगे कहा, ‘लोकसभा में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के पास 350 सांसदों का संख्याबल है. राम मंदिर बनवाने के लिए इससे ज्यादा भला और किस चीज की जरूरत है.’

‘एनसीपी कार्यकर्ताओं को जनसंपर्क और लोगों के साथ संवाद की सीख आरएसएस से लेनी चाहिए.’  

— शरद पवार, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष

शरद पवार ने यह बात पार्टी के कार्यकर्ताओं को एक बैठक के दौरान नसीहत देते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने इसका एक उदाहरण भी दिया. उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के किसी कार्यकर्ता को यदि पांच घरों के लोगों से संपर्क साधने के लिए कहा जाता है तो वह सभी घरों में जाता है. अगर किसी दरवाजे पर उसे ताला मिलता है तो वह अगले दिन फिर वहां जाकर संपर्क करता है.’ इसके साथ ही शरद पवार का यह भी कहना था, ‘महाराष्ट्र विधानसभा के आगामी चुनाव के मद्देनजर हमें भी पूरी ईमानदारी के साथ ऐसा ही संपर्क अभियान चलाना है.’


‘बैंक सस्ते कर्ज का लाभ तेजी के साथ ग्राहकों तक पहुंचाएं.’  

— शक्तिकांत दास, आरबीआई के गवर्नर

शक्तिकांत दास ने यह बात मौद्रिक नीति की समीक्षा के बाद संशोधित नीतिगत दरों की घोषणा करते हुए कही कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘ग्राहकों तक नीतिगत दरों में कटौती का लाभ पहुंचने में चार से छह महीने लग जाते हैं. लेकिन इस बार इसमें देर नहीं होनी चाहिए.’ शक्तिकांत दास ने गुरुवार को ही रेपो रेट में 0.25 फीसदी कटौती की घोषणा की है जिससे कर्ज की दरें सस्ती होने की उम्मीद है.


‘2021 मेरे लिए एक चुनौती है और मैं इसे स्वीकार कर रहा हूं.’  

— प्रशांत किशोर, चुनाव रणनीतिकार

प्रशांत किशोर ने यह बात 2021 में होने वाले पश्चिम बंगाल के राज्य विधानसभा चुनाव में वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए चुनावी रणनीति बनाने को लेकर कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं ममता बनर्जी को 2015 से जानता हूं. वे एक जुझारू नेता हैं और जनता के साथ सीधा संवाद रखती हैं.’ प्रशांत किशोर 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा राज्य विधानसभा के कई चुनावों में भी अनेक नेताओं के लिए सफल चुनावी रणनीति बना चुके हैं.


‘रक्षा बजट में कटौती से हमारी सेना की जवाबी कार्रवाई की क्षमता पर बुरा असर नहीं पड़ेगा.’  

— जनरल कमर जावेद बाजवा, पाकिस्तानी सेना के प्रमुख

जनरल कमर जावेद बाजवा ने यह बात भारत-पाकिस्तान नियंत्रण रेखा के निकट अपने देश के सैनिकों से बातचीत के दौरान कही. इसके साथ ही सैनिकों को आश्वस्त करते हुए उन्होंने कहा, ‘बजट कटौती की वजह से वेतन वृद्धि नहीं करने का फैसला सेना के अधिकारियों पर लागू किया जाएगा. सैनिकों तक इसका असर नहीं आने दिया जाएगा.’ इसी मौके पर उन्होंने सैनिकों के लिए अपने देश को ‘पहला परिवार’ भी बताया. साथ ही कहा, ‘रक्षा बजट में बढ़ोतरी न करने का फैसला देश पर कोई एहसान नहीं है.’