पिछले हफ्ते आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री का पद संभालने वाले जगन मोहन रेड्डी ने अपनी कैबिनेट को लेकर एक खास घोषणा की है. शुक्रवार को पार्टी नेताओं के साथ हुई बैठक में उन्होंने कहा कि 25 मंत्रियों वाली उनकी कैबिनेट में पांच उप मुख्यमंत्री होंगे. पांचों उप मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग और राज्य के कापू समुदाय से बनाए जा रहे हैं. जाति के साथ-साथ इनका चयन भी राज्य के अलग-अलग क्षेत्रों से किया गया है जिसमें रायलसीमा, प्रकाशम, कृष्णा डेल्टा, गोदावरी और वाइजैग शामिल हैं. खबरों के मुताबिक इन सभी उप मुख्यमंत्रियों को इसी शनिवार को शपथ दिलाई जाएगी.

इधर, राज्य में पांच उप मुख्यमंत्रियों के फैसले पर जगन मोहन रेड्डी ने यह भी कहा है कि समाज के विभिन्न वर्ग के लोगों ने तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) को सत्ता से हटाने के लिए वर्षों की कड़ी मेहनत की है. अब जबकि आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस की सरकार आई है तो विभिन्न इलाकों सहित समाज के सभी वर्गों को इसमें प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए.

बीते महीने संपन्न हुए लोकसभा के चुनाव के साथ ही आंध्र प्रदेश में राज्य विधानसभा के चुनाव भी कराए गए थे. इस चुनाव में जगन मोहन रेड्डी की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस ने राज्य विधानसभा की 175 में से 151 सीटों पर अपना कब्जा जमाया था. वहीं दूसरी तरफ राज्य के तत्कालीन सत्ताधारी दल टीडीपी का सूपड़ा साफ हो गया था. विधानसभा की ही तरह तब वाईएसआर कांग्रेस ने राज्य की 25 संसदीय सीटों में से 22 सीटों पर जीत ​हासिल की थी. वहीं टीडीपी के खाते में सिर्फ तीन सीटें ही आ पाई थीं.