मालदीव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने देश के सर्वोच्च सम्मान ‘निशान इज्जुद्दीन’ से सम्मनित किया है. उन्हें इस सम्मान से वहां के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सालेह ने सम्मानित किया. मालदीव की मजलिस (संसद) में उन्हें जब यह सम्मान दिया गया तो उस वक्त वहां के सांसदों सहित कई विदेशी मेहमान भी मौजूद थे. वहीं नरेंद्र मोदी ने इस सम्मान के लिए मालदीव का आभार प्रकट किया. साथ ही इसे भारत और मालदीव की दोस्ती को दिया गया सम्मान भी बताया.

इससे पहले नरेंद्र मोदी शनिवार को दो दिवसीय यात्रा पर मालदीव पहुंचे. माले एयरपोर्ट पहुंचने पर मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने उनकी अगवानी की. इसके बाद रिपब्लिक स्क्वॉयर पहुंचने पर इब्राहिम मोहम्मद सालेह ने उनका स्वागत किया. इस मौके पर नरेंद्र मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया था. वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने सालेह को भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्यों की तरफ से हस्ताक्षर किया गया एक बैट भेंट किया.

प्रधानमंत्री के तौर पर अपने दूसरे कार्यकाल की नरेंद्र मोदी की यह पहली विदेश यात्रा है. इस यात्रा को भारत की नीबर फर्स्ट (पड़ोसी पहले) नीति को दर्शाने वाला बताया गया है. इसके अलावा हिंद महासागर में भारत के सामरिक हितों के लिहाज से भी इस यात्रा को अहम माना जा रहा है. जानकारी के मुताबिक इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच कुछ द्विपक्षीय करार भी होंगे. इसके अलावा मोदी और सालेह मिलकर कोस्टल सर्विलांस रडार सिस्टम भी लॉन्च करेंगे. इस सिस्टम से भारतीय नौसेना को हिंद महासागर की निगरानी करने में मदद मिलेगी.