नौ जून का दिन भारत के राजनीतिक इतिहास में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. इस दिन भारत के लोगों को अपना दूसरा प्रधानमंत्री मिला था. पंडित जवाहर लाल नेहरू के निधन के बाद 09 जून 1964 को लाल बहादुर शास्त्री ने देश के प्रधानमंत्री का पद संभाला था. हालांकि, नेहरू की मृत्यु के तुरंत बाद गुलजारी लाल नंदा को कार्यवाहक प्रधानमंत्री बनाया गया था और उन्होंने यह जिम्मेदारी 13 दिनों तक संभाली थी.

इसके अलावा आज का दिन देश की चित्रकला के इतिहास में कला के एक चितेरे के निधन के दिन के तौर पर भी दर्ज है. भारत में आधुनिक चित्रकला के पर्याय एम.एफ. हुसैन ने आज ही के दिन दुनिया को अलविदा कहा था.

एम एफ़ हुसैन को पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर पहचान 1940 के दशक के आख़िर में मिली. युवा चित्रकार के रूप में एम एफ़ हुसैन बंगाल स्कूल ऑफ़ आर्ट्स की राष्ट्रवादी परंपरा को तोड़कर कुछ नया करना चाहते थे. वर्ष 1952 में उनकी पेंटिग्स की प्रदर्शनी ज़्यूरिख में लगी. उसके बाद तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनकी पेंटिग्स की ज़ोर-शोर से चर्चा शुरू हो गई.

1973 में उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया गया तो 1986 में उन्हें राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया. भारत सरकार ने 1991 में उन्हें पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया.

देश दुनिया के इतिहास में नौ जून की तारीख पर दर्ज प्रमुख घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:-

1659 : दादर के बलूची प्रमुख जीवन खान ने दारा शिकोह को धोखे से औरंगजेब के हवाले कर दिया.

1720 : स्वीडन और डेनमार्क ने तीसरी स्टॉकहोम संधि पर हस्ताक्षर किये.

1752 : फ्रांसीसी सेना ने त्रिचिनोपोली में ब्रिटिश के समक्ष आत्मसमर्पण किया.

1789 : स्पेन ने वैंकूवर द्वीप के निकट ब्रिटिश जहाजों पर कब्जा किया.

1900 : स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा का रांची जेल में संदिग्ध परिस्थितियों में निधन.

1940 : नार्वे ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी के सामने आत्मसमर्पण किया.

1956 : अफगानिस्तान में जबर्दस्त भूकंप से 400 लोगों की मौत.

1960 : चीन में तूफान से कम से कम 1,600 लोगों की मौत.

1970 : जोर्डन के शाह हुसैन के वाहन पर गोलियां चलाई गईं. शाह हुसैन तो बच गए, लेकिन उनके वाहन चालक को चोट आई.

1980 : अंतरिक्ष यान सोयुज टी-2 पृथ्वी पर लौटा.

1983 : मार्गरेट थैचर के नेतृत्व में ब्रिटेन के आम चुनावों में कंजर्वेटिव पार्टी ने लगातार दूसरी बार बहुमत हासिल किया.