जाने-माने अभिनेता, नाटककार, लेखक और निर्देशक गिरीश कर्नाड का निधन हो गया है. 81 साल के गिरीश कर्नाड काफी समय से बीमार चल रहे थे. आज सुबह उन्होंने अपने घर में अंतिम सांस ली.

गिरीश कर्नाड बीते चार दशकों से नाटक लेखन और रंगमंच की दुनिया के एक बड़े नाम थे. वे समकालीन मुद्दों पर लिखते हुए इतिहास और पौराणिक कथाओं का इस्तेमाल करने के लिए जाने जाते थे. उनके कई नाटकों का अंग्रेजी और कई भारतीय भाषाओं में मंचन हुआ. लगभग पांच दशक से ज्यादा समय तक गिरीश कर्नाड नाटकों के लिए सक्रिय रहे.

अभिनय, लेखन, निर्देशन आदि में अपने योगदान के लिए गिरीश कर्नाड को पद्म श्री से सम्मानित किया गया था. वे चार बार फिल्मफेयर (कन्नड़) पुरस्कार भी जीते. इनमें से तीन बतौर सर्वश्रेष्ठ निर्देशक और एक स्क्रीनप्ले के लिए दिया गया था. वहीं, 1998 में उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

गिरीश कर्नाड के निधन पर राजनीति से लेकर फिल्म जगत तक तमाम क्षेत्रों से जुड़ी हस्तियों ने दुख जताया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर लिखा, ‘गिरीश कर्नाड को सभी माध्यमों में उनके बहुमुखी अभिनय के लिए याद किया जाएगा. उनके काम आने वाले वर्षों में लोकप्रिय होते रहेंगे. उनके निधन से दुखी हूं. उनकी आत्मा को शांति मिले.’