जाने-माने क्रिकेटर युवराज सिंह ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया है. वे काफी समय से भारतीय टीम से बाहर चल रहे थे. मौजूदा विश्व कप की टीम में भी उन्हें नहीं चुना गया था. संन्यास का ऐलान करते हुए युवराज सिंह ने कहा, ‘क्रिकेट में 25 और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 17 साल के उतार-चढ़ाव के बाद मैंने आगे बढ़ने का फैसला किया है...इस खेल ने मुझे बहुत कुछ सिखाया है कि कैसे लड़ना है, कैसे गिरना है, फिर से उठना है और आगे बढ़ना है.’

युवराज सिंह ने भारत के लिए 40 टेस्‍ट, 304 वनडे और 58 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले. भारतीय टीम को 2011 में हुए विश्वकप का खिताब जिताने में उनकी बड़ी भूमिका रही. गेंद और बल्‍ले से शानदार प्रदर्शन करते हुए उन्होंने तब इस आयोजन के सर्वश्रेष्‍ठ खिलाड़ी होने का श्रेय हासिल किया था. 2007 में टी20 विश्वकप में एक ओवर में लगाए गए उनके छह छक्के भी हमेशा लोगों को याद रहेंगे. यह कारनामा उन्होंने इंग्लैंड के गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड के खिलाफ किया था.

युवराज सिंह का जीवट भी चर्चित रहा. 2011 के विश्व कप के बाद उन्हें कैंसर हो गया था. लेकिन इससे सफलतापूर्वक लड़ते हुए वे मैदान पर वापस आए.