राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने लोकसभा सांसद प्रज्ञा ठाकुर के बहाने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधा है. खबरों के मुताबिक उन्होंने कहा है, ‘बम धमाके के आरोपित को टिकट देना लोकतंत्र पर हमला करने जैसा है.’ लोकसभा के बीते चुनाव में भाजपा ने मालेगांव बम धमाके की आरोपित प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल सीट से अपना उम्मीदवार बनाया था. यहां से उन्होंने कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को हराया था.

इधर, पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए शरद पवार ने यह भी कहा, ‘मालेगांव की मस्जिद में वह बम धमाका जुमा (शुक्रवार) के दिन हुआ था. मैं किसी हाल में यह स्वीकार नहीं कर सकता कि कोई मुसलमान जुमे के दिन किसी धमाके को अंजाम दे सकता है क्योंकि मुस्लिम समुदाय में जुमा को एक पवित्र दिन के तौर पर देखा जाता है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘यही वजह थी कि धमाके के उस मामले में जब मुंबई के आतंक निरोधी दस्ते (एटीएस) ने मुसलमानों को गिरफ्तार किया था तो मैंने उसका विरोध किया था. तब एटीएस अधिकारी हेमंत करकरे ने उस शख्सियत को गिरफ्तार किया था जो अगले दिनों में राष्ट्रपति के संबोधन के दौरान संसद में बैठी दिखाई देंगी.’

साल 2008 में हुए उस धमाके के मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर बीते हफ्ते राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनएआई) की अदालत के समक्ष हाजिर हुई थीं. तब उस मामले में उनसे पूछताछ भी हुई थी. प्रज्ञा ठाकुर के अलावा इस मामले के आरोपितों में लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित, मेजर (सेवानिवृत्त) रमेश उपाध्याय, समीर कुलकर्णी और सुधाकर चतुर्वेदी के नाम भी शामिल हैं.