शिवसेना के नेता संजय राउत ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण पर एक और बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि बहुमत की राय पर इस साल के आखिर तक मंदिर निर्माण का काम शुरू करवा दिया जाएगा. खबरों के मुताबिक उन्होंने यह बात उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही. साथ ही अयोध्या मसले के सुप्रीम कोर्ट में लंबित होने को लेकर भी उन्होंने प्रतिक्रिया दी. संजय राउत ने कहा, ‘हमारे लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और देश के आम लोग ही सुप्रीम कोर्ट हैं. सुप्रीम कोर्ट अपना काम करता रहेगा. वहां राम मंदिर बनवाने के लिए हमारे पास कई और रास्ते भी हैं.’

संजय राउत ने इससे पहले बीते हफ्ते भी राम मंदिर को लेकर एक बयान दिया था. तब उन्होंने कहा था, ‘अगर अब भी मंदिर निर्माण नहीं हुआ तो लोग हमें जूतों से मारेंगे क्योंकि 2014 के लोकसभा चुनाव में भी हमने मंदिर बनवाने का वादा किया था जिसे हम पूरा करने में कामयाब नहीं हो पाए. इस चुनाव में भी हमने यह मुद्दा उठाया है. इसके पूरा न होने से जनता का हमपर से विश्वास उठ जाएगा.’

इधर, सोमवार को शिवसेना के नेता ने यह भी कहा, ‘बीते लोकसभा चुनाव में हमने राम मंदिर सहित अनुच्छेद 370 और समान नागरिक संहिता जैसे मुद्दों पर वोट मांगा. ये सभी राष्ट्रीय हित के मुद्दे हैं जिनके आधार पर लोगों ने हमें एक बार फिर सत्ता में वापस भेजा है.’ इस मौके पर गृहमंत्री की तारीफ करते हुए उन्होंने आगे कहा, ‘अमित शाह एक सक्षम नेता हैं. वे कश्मीर समस्या का समाधान कर सकते हैं.’ राउत के मुताबिक, ‘सरदार पटेल के बाद अमित शाह ऐसे गृह मंत्री हैं जो राष्ट्रीयता और हिंदुत्व की बात करते हैं.’

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इसी महीने की 15 तारीख को शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे पार्टी के दूसरे सभी सांसदों के साथ अयोध्या पहुंचकर राम लला के दर्शन करेंगे. लोकसभा चुनाव से पहले भी उद्धव ठाकरे ने अयोध्या का दौरा किया था और उसी दौरान उन्होंने चुनावी नतीजों के बाद ​दोबारा अयोध्या आने की बात भी कही थी.