पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी को वहां की भ्रष्टाचार जांच संस्था नेशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो (नैब) ने गिरफ्तार कर लिया है. खबरों के मुताबिक उनकी यह गिरफ्तारी फर्जी बैंक खातों के जरिये पाकिस्तान के बाहर पैसे भेजने के मामले में की गई है. इस मामले में वे पहले से ही अंतरिम जमानत पर बाहर थे लेकिन इस्लामाबाद हाईकोर्ट की तरफ से उनकी जमानत को आगे नहीं बढ़ाए जाने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. अब इसी मंगलवार को उन्हें अदालत के सामने पेश किया जाएगा.

फर्जी बैंक खातों के जरिये रुपये के लेन-देन के इस मामले में आसिफ अली जरदारी की बहन फरयाल तलपुर पर भी आरोप लगे हैं. लेकिन अभी उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है. आसिफ अली जरदारी पर भ्रष्टाचार के कई दूसरे मामले भी चल रहे हैं.

इधर, बीते दिनों पाकिस्तान पूर्व राष्ट्रपति ने वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान को उनके पद से हटाने का संकल्प भी जाहिर किया था. तब जरदारी ने कहा था कि इमरान खान के शासन में महंगाई और बेरोजगारी में भारी इजाफा हुआ है. इसके अलावा अगर इमरान खान को जल्दी ही देश की सत्ता से नहीं हटाया जाता तो वे पाकिस्तान को ऐसे मुकाम पर पहुंचा देंगे जहां से देश चलाना बेहद कठिन हो जाएगा.