रेल यात्रा के दौरान ‘असहनीय गर्मी’ की वजह से चार लोगों की मौत हो जाने का एक मामला सामने आया है. खबरों के मुताबिक यह घटना इसी सोमवार की है. मरने वाले चारों यात्री उत्तर प्रदेश के आगरा से तमिलनाडु के कोयंबटूर की यात्रा कर रहे थे. इस दौरान भारतीय रेल ने इस घटना को निराशाजनक बताते हुए इसकी उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं.

वहीं भारतीय रेल के प्रवक्ता अजीत कुमार सिंह ने कहा है, ‘जब केरल एक्सप्रेस उत्तर प्रदेश के झांसी पहुंची थी तो ट्रेन के स्टाफ ने स्टेशन को कुछ यात्रियों के बेहोश होने की सूचना दी थी. इस पर पीड़ितों को फौरन डॉक्टरी सहायता मुहैया कराई गई. मौके पर डॉक्टरों ने तीन यात्रियों को मृत पाया था जबकि बेहोशी की हालत में चौथे यात्री को अस्पताल में दाखिल कराया गया था. लेकिन बाद में उसकी भी मौत हो गई थी.’

रेलवे प्रवक्ता ने आगे कहा कि ट्रेन में कोई तकनीकी खराबी नहीं थी और ये सभी यात्री स्लीपर कोच में यात्रा कर रहे थे जिसमें रेलवे एयरकंडीशनिंग की सुविधा मुहैया नहीं कराता.

वहीं आगरा से ही उसी ट्रेन पर सवार होने वाले एक अन्य यात्री ने कहा कि जब वे ट्रेन में चढ़े थे तो उसमें काफी गर्मी थी. इससे उनका और कई दूसरे यात्रियों का दम भी घुट रहा था. ट्रेन के आगे बढ़ने के साथ ही कई अन्य यात्रियों को सांस लेने में कठिनाई महसूस हुई थी.

इधर, बीते कुछ दिनों ने उत्तर भारत भीषण गर्मी की चपेट में है. साथ ही हाल के दिनों में झांसी का अधिकतम तापमान भी 45 डिग्री सेल्सियस के आसपास ही दर्ज किया गया है. वहीं बीते दिनों राजस्थान के चुरू में पारा 50 डिग्री को पार कर गया था. इसी सोमवार को दिल्ली में भी अधिकतम तापमान 48 डिग्री पर रिकॉर्ड किया गया था जिसे राष्ट्रीय राजधानी के इतिहास में अब तक का अधिकतम तापमान भी बताया गया है.