पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ धोखाधड़ी करने के आरोपित नीरव मोदी को ब्रिटेन की एक अदालत ने जमानत देने से इनकार कर दिया है. यह चौथा मौका है जब वहां की अदालत ने भारत के इस भगोड़े कारोबारी की जमानत नामंजूर की है. खबरों के मुताबिक नीरव मोदी की याचिका को अस्वीकार करते हुए रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने यह भी कहा है कि उसे जमानत दिए जाने पर सबूतों के साथ छेड़छाड़ हो सकती है. इससे पहले तीन अलग-अलग मौकों पर ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने भी उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी.

नीरव मोदी को इसी साल 19 मार्च को ब्रिटेन के होलबॉर्न इलाके से गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद उसे 26 जून तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. इस बीच भारतीय जांच एजेंसियां उसे स्वदेश प्रत्यर्पित करवाने की कवायद में भी जुटी हुई हैं.

नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी के खिलाफ भारत में पीएनबी के साथ 13 हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज है. साथ ही इस मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) जैसी केंद्रीय एजेंसियों को सौंपी गई है. वहीं बैंक धोखाधड़ी के इस मामले में इन केंद्रीय जांच एजेंसियों के हाथ लगने से पहले ही नीरव मोदी और मेहुल चोकसी भारत से फरार हो गए थे जिसके बाद से दोनों विदेश में ही हैं.