शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान के वायु क्षेत्र का इस्तेमाल नहीं करेंगे. अब उनका विशेष विमान ओमन, ईरान और मध्य एशिया के देशों के ऊपर से उड़ान भरते हुए उन्हें किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक पहुंचाएगा. खबरों के मुताबिक यह जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने दी है.

इससे पहले खबरें आई थीं कि बिश्केक तक जाने के लिए नरेंद्र मोदी का विशेष विमान पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र का इस्तेमाल करेगा. इस संबंध में भारत ने पाकिस्तान से इजाजत भी मांगी थी जिसे वहां की सरकार ने स्वीकार भी कर लिया था. लेकिन अब इस सम्मेलन से एक दिन पहले ही भारत ने नरेंद्र मोदी को वहां पहुंचाने के लिए दूसरे हवाई मार्ग का चयन किया है.

एससीओ का यह सम्मेलन इसी महीने की 13-14 तारीख को आयोजित होने जा रहा है. इसमें कई अन्य देशों के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति भी हिस्सा लेंगे. इस दौरान नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अलग से बैठक भी करेंगे. इस सम्मेलन में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी शिरकत कर रहे हैं. ऐसे में इस दौरान नरेंद्र मोदी और इमरान खान के बीच भी अलग से बैठक होने की अटकलें लगी थीं. लेकिन बीते हफ्ते विदेश मंत्रालय ने इन अटकलों को ​सिरे से खारिज कर दिया था.

उधर, बीती फरवरी में भारतीय वायु सेना द्वारा की गई बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद भारत-पाकिस्तान के संबंधों में आपसी तनाव काफी ज्यादा बढ़ गया है. उसके बाद पाकिस्तान ने भारतीय विमानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र बंद कर दिया था. बाद में उसने अपने दक्षिणी हवाई क्षेत्र को खोलने का फैसला किया था. पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र के बंद होने की वजह से ही भारत ने अपने प्रधानमंत्री के विमान को गुजरने देने के लिए उससे इजाजत मांगी थी.