राम विलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) मोदी सरकार में शामिल होने के लिए जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को मनाएगी. बुधवार को लोजपा की ओर से कहा गया कि छह महीने बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल में संभावित विस्तार के समय नरेंद्र मोदी सरकार में शामिल होने के लिए वह जदयू को मनाने का प्रयास करेगी.

पीटीआई के मुताबिक लोजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस ने इसकी जानकारी देते हुए कहा, ‘हमारी कोशिश होगी कि छह महीने बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल में संभावित विस्तार के समय जदयू को अपने पाले में ले लिया जाए.’

बिहार के हाजीपुर से सांसद और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस का यह भी कहना है, ‘हम लोकसभा चुनावों की सफलता को दोहराने के लिए उत्सुक हैं. हम एनडीए गठबंधन के सभी घटक दल अगले साल होने वाला बिहार विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में लडेंगे.’

बिहार में एनडीए गठबंधन में भाजपा के साथ जदयू और लोजपा शामिल हैं. हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में इस गठबंधन ने बिहार की कुल 40 लोकसभा सीटों में से 39 जीती हैं. जदयू को लोकसभा में कुल 16 सीटें मिलीं हैं, लेकिन इसके बावजूद वह केंद्रीय मंत्रिमंडल का हिस्सा नहीं बनी. जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार का कहना है कि उनकी पार्टी को मोदी सरकार में प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व की आवश्यकता नहीं है.