चक्रवाती तूफान ‘वायु’ अब गुजरात के तटीय क्षेत्र से नहीं टकराएगा. उसने रातोंरात अपना रास्ता बदल लिया है. एनडीटीवी ने मौसम विभाग के हवाले से बताया कि अब ‘वायु’ वेरावल, पोरबंदर और द्वारका के नजदीक से गुजर जाएगा. हालांकि इन इलाकों में तेज हवा और बारिश के रूप में उसका प्रभाव जरूर देखने को मिलेगा. वहीं, तेज हवाओं और समुद्री लहरों के चलते पश्चिमी तटीय क्षेत्र अभी भी हाई अलर्ट पर है. इससे पहले आज ‘वायु’ के गुजरात से टकराने के मद्देनजर बुधवार को यहां के तटीय क्षेत्र और दीयू द्वीप के तीन लाख लोगों को निकाल लिया गया था.

उधर, पश्चिमी रेलवे ने तूफान की संभावना को देखते हुए 70 ट्रेनें रद्द कर दीं और 28 अन्य ट्रेनों का रूट घटा दिया. स्कूल और कॉलेज हाई अलर्ट रहने तक बंद रहेंगे. साथ ही, समुद्री तैराकी टीमों को तैयार रखा गया है. पोरबंदर, दीयू, भावनगर, केशोद और कांडला में हवाई सेवा आधी रात से अगले 24 घंटों के लिए बंद हैं. मौसम की समीक्षा के बाद सूरत हवाई अड्डे को लेकर भी फैसला किया जाएगा. मछुआरों को 15 जून तक गुजरात के तटीय क्षेत्र के नजदीक वाले समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है.

वहीं, महाराष्ट्र में भी इस समुद्री तूफान का प्रभाव देखने को मिला है. इसके चलते यहां 400 उड़ानों पर असर पड़ा है. पीटीआई के मुताबिक खराब मौसम की वजह से 194 उड़ानों और 192 लैंडिंग में देरी हुई है. कम से कम दो उड़ानों की मार्ग बदलना पड़ा है. गुजरात की तरह यहां भी एनडीआरएफ, तट रक्षक, सेना, नेवी, वायु सेना और बीएसफ को हाई अलर्ट पर रखा गया है.