महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में टिकटॉक वीडियो बनाने के दौरान गोली चलने से एक किशोर की मौत हो गई. पुलिस के मुताबिक, हादसा बुधवार को हुआ और इसमें प्रतीक वाडेकर (17) की मौके पर ही मौत हो गई.

प्रतीक वाडेकर और उसके कुछ रिश्तेदार परिवार के एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार से संबंधित अनुष्ठान के लिए शिरडी आए थे. इसी सिलसिले में वे एक होटल में रूके थे. होटल में प्रतीक, सन्नी पवार, नितिन वाडेकर और 11 वर्षीय एक अऩ्य लड़के ने पिस्टल लेकर टिकटॉक पर शेयर करने के लिए वीडियो बनाना शुरु कर दिया. पुलिस के मुताबिक, दुर्घटनावश पिस्तौल का ट्रिगर दब गया और गोली प्रतीक वाडेकर को जा लगी. उसकी मौके पर ही मौत हो गई. शिरडी पुलिस थाने के निरीक्षक अनिल काटके ने बताया कि पिस्टल प्रतीक के ही एक रिश्तेदार लेकर आए थे. पुलिस ने मामला दर्ज करके, सन्नी और नितिन को गिरफ्तार कर लिया है.

टिक टॉक एक सोशल मीडिया एप है और भारत में इसके 20 करोड़ यूजर्स हैं, जिनमें से 12 करोड़ हर महीने सक्रिय रहते हैं. कुछ दिनों पहले, मद्रास हाईकोर्ट ने इस एप पर रोक लगा दी थी. लेकिन, बाद में इसे हटा लिया गया.