बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के नेता अजय आलोक ने पार्टी के प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कहा है कि वे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ‘शर्मिंदगी’ का कारण नहीं बनना चाहते. हालांकि अजय आलोक ने यह स्पष्ट नहीं किया कि उनके राजनीतिक गुरु किस बात से ‘शर्मिंदा’ हो सकते हैं.

पीटीआई के मुताबिक मीडिया में अटकलें हैं कि नीतीश कुमार पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार की अत्यधिक आलोचना करने को लेकर अजय आलोक से नाराज हैं. वहीं, कुछ में कहा गया है कि बांग्लादेशी घुसपैठ के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह पर तंज कसने की वजह से आलोक को इस्तीफा देना पड़ा है.

आलोक ने अपना इस्तीफा गुरुवार रात ट्विटर पर साझा किया. इसमें उन्होंने पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख वशिष्ठ नारायण सिंह को संबोधित किया. उन्होंने अपने इस्तीफे में लिखा, ‘मैं आपको पत्र लिखकर यह सूचित कर रहा हूं कि मैं पार्टी प्रवक्ता के पद से इस्तीफा दे रहा हूं क्योंकि मुझे लगता है कि मैं पार्टी के लिए अच्छा काम नहीं कर रहा हूं. मैं यह अवसर देने के लिए आपका और पार्टी का धन्यवाद करता हूं, लेकिन कृपया मेरा इस्तीफा स्वीकार करें.’

एक और ट्वीट में आलोक ने कहा, ‘मैंने जदयू के प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे दिया है क्योंकि मेरा मानना है कि मैं अच्छा काम नहीं कर रहा हूं. मेरे विचार नि:संदेह मेरे हैं और ये पार्टी से मेल नहीं खाते. हमेशा मेरा समर्थन करने वाली मेरी पार्टी तथा मेरे अध्यक्ष का धन्यवाद. मैं नीतीश कुमार की शर्मिंदगी का कारण नहीं बनना चाहता.’