पश्चिम बंगाल में चल रही डॉक्टरों की हड़ताल के समर्थन में अब दिल्ली सहित कुछ दूसरे शहरों के डॉक्टर भी आ गए हैं और उन्होंने भी कम करना बंद कर दिया है. इसके अलावा डॉक्टरों के संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने 17 जून को पूरे भारत में डॉक्टरों की हड़ताल बुलाई है. ऐसी तमाम खबरें आज सोशल मीडिया पर शेयर हुई हैं. इस बीच यहां एक बड़ा तबका यह कहते हुए डॉक्टरों के समर्थन में आया है कि उन्हें पर्याप्त सुरक्षा मिलनी चाहिए. वहीं बंगाल में यह राजनीतिक मुद्दा बनता हुआ दिख रहा है. राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जहां भाजपा पर डॉक्टरों को उकसाने का आरोप लगा रही हैं तो वहीं भाजपा का कहना है कि राज्य सरकार डॉक्टरों की समस्याएं सुलझाने में नाकाम रही है.

सोशल मीडिया पर भाजपा समर्थकों के अलावा अन्य लोगों ने भी इस मामले में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री को जमकर निशाने पर लिया है. आशु का ट्वीट है, ‘ममता बनर्जी आज राष्ट्रीय नेता बन गई हैं. उन्होंने पश्चिम बंगाल को चलाने में ऐसी अक्षमता दिखाई है कि अब सोमवार को पूरे देश के डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे...’ डॉक्टरों के विरोध प्रदर्शन और हड़ताल पर सोशल मीडिया में आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :

सर युजवेंद्र | @SirYuzvendra

पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के अपने घर सुरक्षित लौटने पर उनके माता-पिता :

मेघनाद | @Memeghnad

ममता बनर्जी हालात नहीं समझ पा रही हैं. यह निपट अक्षमता और सनकभरा व्यवहार है. डॉक्टर तीन दिन से हड़ताल कर रहे हैं और वे उन्हीं के ऊपर ऊट-पटांग आरोप लगाकर आग को और हवा दे रही हैं.

सागर | @sagarcasm

डॉक्टरों को बचाइए, मैं हर दिन सेब नहीं खा सकता.

रमेश श्रीवत्स | @rameshsrivats

ममता बनर्जी – मोदी ने सर्जन्स की स्ट्राइक करवाई थी. मैंने डॉक्टरों की स्ट्राइक करवाई है. ऐसे में सिर्फ मुझे क्यों घेरा जा रहा है?
ममता बनर्जी का सलाहकार – अर्रर्र... मैडम, आपने सर्जिकल स्ट्राइक का गलत मतलब निकाल लिया.