अमेरिका और ईरान के बीच तनाव दिनों-दिन बढ़ता ही जा रहा है. यहां तक कि अब अमेरिका ने ईरान के ख़िलाफ़ सैन्य कार्रवाई की संभावना से भी इंकार नहीं किया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फॉक्स न्यूज़ को फोन पर दिए साक्षात्कार के दौरान ओमान की खाड़ी में दो तेल टैंकरों पर किए गए हमलों के लिए ईरान की तरफ़ अंगुली उठाई. उन्होंने कहा, ‘यह सब ईरान ने ही किया है. आप (साक्षात्कार लेने वाले) भी जानते हैं कि यह उन्होंने ही किया है.’

डोनाल्ड ट्रंप के इस साक्षात्कार के कुछ समय बाद ही अमेरिकी प्रशासन ने कुछ तस्वीरें और तेल टैंकरों पर हमले का सिलसिलेवार ब्यौरा भी जारी किया. इससे यह ज़ाहिर होता है कि इसी गुरुवार को ओमान के पास फारस की खाड़ी में दो तेल टैंकरों पर हुए हमले में ईरान का हाथ है. हालांकि ईरान ने इस आरोप काे ख़ारिज़ किया है. लेकिन अमेरिकी प्रशासन उसके विरुद्ध अपनी राय बना चुका है.

बताया जाता है कि इसके बाद अमेरिकी प्रशासन तमाम विकल्पों पर विचार कर रहा है, जो ईरान के ख़िलाफ़ आजमाए जा सकते हैं. इनमें एक विकल्प ये है कि तेल टैंकरों की आवाज़ाही के समय उनकी सुरक्षा में अमेरिकी नौसेना का जहाजी-नौकाई दस्ता तैनात किया जाए. दूसरा- ईरान के ख़िलाफ़ सीधी सैन्य कार्रवाई की जाए. अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक उनके सामने सभी विकल्प खुले हुए हैं.