इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजमिन नेतन्याहू की पत्नी सारा को वहां की एक स्थानीय अदालत ने सरकारी धन के दुरुपयोग का दोषी माना है. इसके लिए उन्हें कुल 55,000 इज़राइली मुद्रा (शेकेल) का ज़ुर्माना और हर्ज़ाना अदा करने को कहा है.

ख़बरों के मुताबिक 60 वर्षीय सारा नेतन्याहू के ख़िलाफ़ यह आरोप सही पाया गया है कि उन्होंने जून 2018 के शुरू में प्रधानमंत्री के सरकारी आवास पर रसोइया होने के बावजूद कई बार बाहर से खाना मंगवाया. इस तरह सरकारी ख़ज़ाने को चपत लगाई. उनके कृत्य के लिए उनके ख़िलाफ़ धोखाधड़ी, विश्वासघात और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे. हालांकि इज़राइली कानून के मुताबिक उन्होंने अदालत में अपना अपराध स्वीकार कर लिया और इसके एवज़ में ज़ुर्माना तथा हर्ज़ाना चुकाने काे भी तैयार हो गईं.

अदालत की मंज़ूरी के साथ आरोपित और अभियोजन पक्ष के बीच होने वाले ऐसे समझौते को इज़राइल में प्ली बार्गेन कहा जाता है. बताया जाता है कि यरूशलम के मजिस्ट्रेट एविटल चेन की अदालत ने भी सारा नेतन्याहू और अभियोजन पक्ष के बीच प्ली बार्गेन को मंज़ूरी दे दी. इसके बाद सारा को 10,000 शेकेल का ज़ुर्माना अदा करने का आदेश दिया गया. साथ ही उन्हें सरकारी ख़ज़ाने को 45,000 शेकेल का हर्ज़ाना चुकाने का आदेश भी दिया गया. यह पैसा वे नौ किश्तों में चुकाएंगी. बदले में सारा के ख़िलाफ भ्रष्टाचार के आरोप हटा लिए गए हैं.