पश्चिम बंगाल के जूनियर डॉक्टरों ने बीते हफ्ते से चली आ रही हड़ताल खत्म कर दी है. सोमवार को जूनियर डॉक्टरों ने यह फैसला राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ हुई एक बैठक के बाद किया. खबरों के मुताबिक इस बैठक में ममता बनर्जी ने डॉक्टरों को राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में उनकी सुरक्षा के लिए नोडल पुलिस अधिकारी तैनात करने का भरोसा दिलाया. साथ ही उनकी दूसरी मांगें भी स्वीकार कर ली हैं.

जूनियर डॉक्टरों के 31 सदस्यों वाले एक दल ने आज जिला सचिवालय में ममता बनर्जी के साथ मुलाकात की थी. इस दल ने उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत कराया था. उस मौके पर पश्चिम बंगाल की स्वास्थ्य सचिव चंद्रिमा भट्टाचार्य के साथ राज्य के कई दूसरे उच्च अधिकारी भी मौजूद थे. ममता बनर्जी ने बीते हफ्ते भी जूनियर डॉक्टरों से हड़ताल खत्म करने की अपील की थी. तब उन्होंने हड़ताली डॉक्टरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने की बात भी कही थी.

इससे पहले बीती 11 जून को कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में एक मरीज के परिजनों ने डॉक्टरों के साथ मारपीट की थी. इसके बाद राज्य के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे. तब बीते हफ्ते दिल्ली सहित कई दूसरे शहरों और राज्यों के डॉक्टरों ने उसके समर्थन में ओपीडी में काम नहीं किया था जिसकी वजह से बड़े पैमाने पर मेडिकल सेवाएं प्रभावित हुई थीं. वहीं उसी मारपीट के मद्देनजर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने भी आज डॉक्टरों की देशव्यापी हड़ताल भी बुलाई थी.