चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इस सप्ताह पहली बार उत्तर कोरिया जा सकते हैं. कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के अंतरराष्ट्रीय विभाग के प्रवक्ता हु झाओमिंग ने बताया कि उत्तर कोरियाई शासन प्रमुख किम जोंग उन के आमंत्रण पर शी जिनपिंग 20-21 जून को उत्तर कोरिया जा सकते हैं.

ख़बरों के मुताबिक चीन और उत्तर कोरिया के बीच राजनयिक संबंध स्थापित होने के 70 साल पूरे होने पर शी जिनपिंग की यह यात्रा हो रही है. जबकि बीते 14 साल में किसी चीनी नेता की उत्तर कोरिया की यह पहली यात्रा होगी. ग़ौरतलब है कि जापान की राजधानी टोक्यो में 28-29 जून को जी-20 शिखर सम्मेलन आयोजित है. यहां शी जिनपिंग अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिलने वाले हैं. इसीलिए इस मुलाकात से ठीक पहले जिनपिंग की उत्तर कोरिया यात्रा को काफ़ी अहम माना जा रहा है.

यह भी ध्यान रखना होगा कि अपने आक्रामक परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम पर क़ायम रहने की वज़ह से उत्तर कोरिया पर अमेरिका की अगुवाई में वैश्विक आर्थिक प्रतिबंध लगे हुए हैं. विश्व बिरादारी से भी उत्तर कोरिया पूरी तरह अलग-थलग है. इस स्थिति में कुछ सुधार की उम्मीद उस समय जगी जब डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच दो मुलाकातें (सिंगापुर और हनोई में) हुईं. लेकिन इन वार्ताओं से कोई नतीज़ा नहीं निकला. इसीलिए जिनपिंग की उत्तर कोरिया यात्रा और अहम हो जाती है.