करीब 14 साल पहले पांच जुलाई 2005 को अयोध्या में हुए आतंकी हमले के मामले में उत्तर प्रदेश में प्रयागराज की एक विशेष अदालत ने चार दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है. खबरों के मुताबिक इस विशेष अदालत ने दोषियों पर 20-20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. साथ ही मामले में मोहम्मद अजीज नाम के एक अन्य आरोपित को बरी कर दिया है.

साल 2005 के उस हमले में आतंकवादियों ने अयोध्या की राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद की विवादित जमीन को निशाना बनाया था. तब हमलावर आतंकवादी वहां श्रद्धालुओं के भेष में पहुंचे थे. एक जीप के जरिये विवादित जमीन के करीब पहुंचने के बाद उन्होंने वहां धमाका कर दिया था और उसके बाद एके- 47 राइफलों और रॉकेट लांचर के जरिये गोलाबारी शुरू कर दी थी. तब मौके पर मौजूद राज्य पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने मोर्चा संभालते हुए पांच आतंकवादियों को मार गिराया था. इस आतंकी हमले में दो लोगों की मौत हो गई थी जबकि सुरक्षा बलों के कुछ जवान भी घायल हुए थे.

इसके बाद हमले की जांच करने वाली एजेंसियों ने इसके एक आरोपित को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जबकि चार को जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया था. बीते काफी समय से इन पांचों को प्रयागराज की नैनी जेल में रखा गया है.