भाजपा सांसद ओम बिड़ला बुधवार को सर्वसम्मति से लोकसभा अध्यक्ष चुन लिए गए. इसके साथ ही उन्होंने अपना कार्यभार भी संभाल लिया है. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अलग-अलग दलों के नेताओं ने ओम बिड़ला को इस पद की जिम्मेदारी दिए जाने संबंधी प्रस्ताव लोकसभा के सामने रखा. इस प्रस्ताव को पूरे सदन ने ध्वनिमत से अपना समर्थन दिया. इसके बाद 17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर वीरेन्द्र कुमार ने ओम बिड़ला को लोकसभा अध्यक्ष घोषित किया.

महाराष्ट्र : गन्ने की लगातार कटाई करवाने के लिए 4,605 महिलाओं के गर्भाशय निकाले गए

महाराष्ट्र में 4,605 महिलाओं के गर्भाशय निकाले जाने का मामला सामने आया है. दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक इन महिलाओं के गर्भाशय इसलिए निकाल दिए गए कि वे लगातार गन्ने की कटाई का काम कर सकें. विधान परिषद में स्वास्थ्य मंत्री एकनाथ शिंदे ने इसका खुलासा किया. उन्होंने सदस्यों के सवालों के जवाब में बताया कि निजी क्षेत्र के 99 अस्पतालों में 2016-17 से 2018-19 के बीच 25 से 30 वर्ष आयुवर्ग की इन महिलाओं की अज्ञानता का फायदा उठाकर गर्भाशय निकाले गए. मामले की जांच के लिए सरकार ने बुधवार को एक पैनल का गठन किया है. इस पैनल को अपनी रिपोर्ट सौंपने के लिए दो माह का वक्त दिया गया है.

वाईएसआर कांग्रेस ने लोकसभा उपाध्यक्ष का पद स्वीकार करने से इनकार किया

आंध्र प्रदेश की सत्ताधारी वाईएसआर कांग्रेस पार्टी ने लोकसभा उपाध्यक्ष का पद स्वीकार करने से इनकार कर दिया है. भाजपा ने उसे यह न्यौता दिया था. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक पार्टी के एक नेता ने बताया, ‘जब तक आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिल जाता तब तक हम लोग सत्ताधारी गठबंधन (एनडीए) का हिस्सा नहीं बनेंगे.’ बताया जाता है कि भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी प्रवक्ता जेवीएल नरसिम्हा को लोकसभा उपाध्यक्ष पद की पेशकश के साथ वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख जगनमोहन रेड्डी के पास भेजा था लेकिन, उन्होंने कहा था कि वे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से सलाह कर इसका जवाब देंगे. लोकसभा में इस पार्टी के 22 सांसद हैं.

सनी देओल की लोकसभा सदस्यता पर संकट!

पंजाब के गुरदासपुर से भाजपा सांसद सनी देओल पर लोकसभा चुनाव में तय सीमा से अधिक खर्च करने का आरोप लगा है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक चुनाव आयोग को इस मामले में कुछ दस्तावेज मिले हैं. इनके आधार पर यह बात सामने आई है कि सनी ने चुनाव प्रचार पर 86 लाख रुपये खर्च किए हैं. यह खर्च की सीमा से 14 लाख रुपये अधिक है. नियमों के मुताबिक अगर सनी देओल इस मामले में दोषी साबित होते हैं तो उनकी सदस्यता रद्द की जा सकती है. साथ ही, दूसरे नंबर के प्रत्याशी को विजयी घोषित किया जा सकता है. बताया जाता है कि इस मामले में चुनाव आयोग भाजपा सांसद को नोटिस भेजने पर विचार कर रहा है.

तेजस्वी यादव के ‘गायब’ होने पर राजद नेताओं के अलग-अलग जवाब

राजद के उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह को इस बात की जानकारी नहीं है कि विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव कहां हैं. हालांकि, उन्होंने इसकी संभावना जताई कि वे क्रिकेट विश्वकप देखने लंदन गए हों. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक इससे पहले मंगलवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता भाई वीरेंद्र ने इलाज के लिए तेजस्वी के दिल्ली में होने की बात कही थी. वहीं, मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार के मामले को लेकर राजद नेता की गैर-मौजूदगी पर सवाल उठ रहे हैं. हालांकि, इससे पहले वे राबड़ी देवी की इफ्तार पार्टी और 11 जून को लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन पर आयोजित पार्टी से भी गायब थे.

न्यायपालिका को लोकलुभावनवादी ताकतों के खिलाफ खड़ा होना चाहिए : मुख्य न्यायाधीश

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने न्यायिक नियुक्तियों को सियासी दबाव से मुक्त करने पर जोर दिया है. अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक उन्होंने आजादी को न्यायपालिका की आत्मा बताया. मुख्य न्यायाधीश ने आगे इसे लोकलुभावनवादी ताकतों के उदय से खतरा बताया. उन्होंने रूस के सोची में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ‘देश के सफर में कुछ चरणों में जब विधायिका और कार्यकारी इकाइयां लोकलुभावनवादी ताकतों के प्रभाव में संविधान के तहत अपने लक्ष्यों और कर्तव्यों से दूर हो जाती है तो न्यायपालिका को इन ताकतों के खिलाफ खड़ा होना चाहिए.’ गोगोई ने कहा कि स्वतंत्रता न्यायपालिका की आत्मा है और यदि वह जनता का भरोसा खो देती है तो जो वह फैसला देगी वह ‘न्याय’ नहीं होगा.