भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध अभी सहज होते नहीं दिखते. गुरुवार को ही भारत ने पाकिस्तान का यह दावा सिरे से ख़ारिज़ कर दिया है कि इस्लामाबाद से बातचीत के लिए नई दिल्ली राज़ी है.

दरअसल पाकिस्तानी मीडिया में ऐसी ख़बरें आई थीं. इनमें कहा गया था कि भारत विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पाकिस्तान की ओर से उन्हें भेजे गए बधाई संदेश के ज़वाब में दोनों पक्षों के बीच बातचीत फिर शुरू करने की इच्छा जताई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में भी इसी तरह का दावा किया गया था. पाकिस्तान के अख़बार ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ में यह ख़बर प्रमुखता से छपी थी. हालांकि इसका विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता की ओर से फिलहाल पुरज़ाेर खंडन कर दिया गया है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा है, ‘स्थापित परंपरा के मुताबिक दूसरे देशों के समकक्षाें से आए बधाई संदेशों का प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री ज़वाब देते हैं. यही पाकिस्तान के मामले में भी किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने उत्तर में स्पष्ट कहा है कि दोनों पक्षों की बातचीत शुरू करने के लिए हिंसा, कट्‌टरता और आतंकवाद से मुक्त आपसी विश्वास का वातावरण बनाना ज़रूरी है. विदेश मंत्री ने भी अपने पाकिस्तानी समकक्ष को भेजे ज़वाब में यही कहा है.’